Khaki Connection

varanasi news : भारतीय सेना में शामिल हुए 54 जांबाज...देश पर मर मिटने की खाई कसम

varanasi news : भारतीय सेना में शामिल हुए 54 जांबाज...देश पर मर मिटने की खाई कसम

वाराणसी (varanasi) से एक बड़ी खबर सामने आई है, जहां भारतीय सेना (Indian Army) का हिस्सा बने रंगरूटों ने पासिंग आउट परेड (passingout pared) के बाद स्मृति धाम पहुंचकर शहीदों को श्रद्धांजलि (Tribute) दी। बता दें कि कार्यक्रम के दौरान ब्रिगेडियर राजीव नवियाल (Brigaider Rajiv Naviyal) ने सभी को देशभक्ती के गुण भी सिखाए, इसी के साथ परैड(Pared) के बाद रंगरूटो को पुरस्कृत(Rewarded) भी किया गया।

शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि 

Passing Out Parade In 39 Gtc Varanasi After 42 Weeks Of Hard Training 64  Recruits Became Part Of Indian Army See Photos - पासिंग आउट परेडः 42 हफ्ते  के कठिन प्रशिक्षण के बाद 39 जीटीसी के 64 रंगरूट बने भारतीय सेना का हिस्सा,  तस्वीरों में देखें - Amar Ujala Hindi ...

आपको बता दें कि, भारतीय सेना (Indian Army) का हिस्सा बने 54 रंगरूटों ने पासिंग आउट परेड (passingout pared) से पहले 39 जीटीसी (GTC) में 42 हफ्ते का कठिन प्रशिक्षण लिया था। इस दौरान उन्होंने सीखा कि, कैसे विषम परिस्थितियों में रहकर भी, वह देश की रश्रा करेंगे। इसके साथ ही दुश्मन देश के सामने कभी सिर नहीं झुकाएंगे और भारत भूमि की रक्षा के लिए जरूरत पड़ी तो हंसते हुए शहीद हो जाएंगे। बता दें कि, गोरखा रेजीमेंट(Gorkha Reziment) के पाइप बैंड (pipe band) की धुन के बीच पासिंग आउट परेड (passingout pared) के बाद रंगरूट स्मृति धाम पहुंचे और शहीदों को श्रद्धांजलि(Tribute) दी गई।

ब्रिगेडियर राजीव नवियाल ने बताया 

After the passing out parade at 39 GTC, Varanasi, the jawans took the oath  of sacrifice; Presented Khukri | वाराणसी के 39 GTC में पासिंग आउट परेड के  बाद जवानों ने सर्वस्व

ब्रिगेडियर (Brigaider) राजीव नवियाल (Rajiv Naviyal) ने गरूटों को बधाई देने के साथ बताया कि, एक सैनिक को हमेशा अपने अनुशासन, अपनी फिटनेस और शस्त्र के ठीक से रख-रखाव पर गंभीरता से ध्यान देना चाहिए। इसके साथ ही हर विपरीत परिस्थिति में भी हौसला बुलंद रखना चाहिए और एक देशभक्ति के जज्बे से ओतप्रोत रहना चाहिए। उन्होनें बताया कि, अच्छी शिक्षा ग्रहण करने और रोजाना कुछ नया सीखने पर ध्यान देना चाहिए। बदलते परिवेश के साथ युद्ध के तौर-तरीके में हो रहे बदलाव और तकनीक में सैनिक को पारंगत होना चाहिए। बता दें कि, पासिंग आउट परेड (Passingout Pared) कार्यक्रम का दौरान NCC कैडेट्स, विभिन्न स्कूलों के छात्र-छात्राएं (Students), सेना के अफसर और रंगरूटों के परिजन (Family Members) भी मौजूद रहे। 

इन रंगरूटो के किया गया पुरस्कृत

बता दें कि, परैड के बाद रंगरूटो (Recruit) को पुरस्कृत(Awarded) भी किया गया, जिनमें  बेस्ट इन ड्रिल - सिद्धार्थ काटूवाल, बेस्ट इन टैक्टिक्स- दिनचें तमांग, बेस्ट इन कॉम्बेट ऑब्सटेकल कोर्स - प्रवेश क्षेत्री, बेस्ट इन फायरिंग - संजोग सरकी, बेस्ट इन बेनेट एंड खुखरी फाइटिंग - पेमसंगाय तमांग, बेस्ट इन बीपीईटी - अविनाश राय, सेकेंड ऑल राउंड बेस्ट - प्रवेश क्षेत्री, ऑल राउंड बेस्ट की - रोशन बहादुर क्षेत्री आदि को दिया गया।


संवाददाता

ISHA GUPTA

Police Media News

Leave a comment