Khaki Connection

शराबबंदी की रोक थाम करने में नाकाम रहे 211 पुलिसकर्मी हुए अब तक बर्खास्त

शराबबंदी की रोक थाम करने में नाकाम रहे 211 पुलिसकर्मी हुए अब तक बर्खास्त

शराब प्रतिबंध होने के बाद भी शराब से सम्बंधित मामले थमने का नाम नहीं ले रहे. साथ ही जहरीली शराब की वजह से कई लोग अपनी जान गवा बैठे है. जिसके मद्देनज़र शराबबंदी कानून लागू में तेज़ी आई थी, लेकिन बिहार पुलिस अपनी हरकतों से बाज नहीं आती और लापरवाही दिखती है. जिससे लोगों का मानना है कि पुलिस की मिलीभगत से ही शराब धंधेबाज फल-फूल रहे हैं और पुलिस अपने फायदे के लिए धंधेबाजों पर कार्रवाई नहीं करती है. जिसके मद्देनज़र ऐसे भ्रष्ट पुलिसकर्मियों पर पुलिस मुख्यालय की गाज गिरी है. नवादा जिले में शराबबंदी कानून को लागू करने में लापरवाही बरतने के आरोप में तीन पुलिस अफसरों और एक सिपाही समेत चार पुलिसकर्मियों को बर्खास्त कर दिया गया है.

मांगा गया बर्खास्त पुलिसकर्मियों का ब्‍योरा

पुलिस मुख्यालय के अनुसार इन पुलिसकर्मियों पर शराबबंदी कानून को लागू करने में लापरवाही बरतने का आरोप है. जिसके बाद इन पुलिसकर्मियों पर प्राथमिकी और विभागीय कार्रवाई की गई, जिसके बाद उन्हें बर्खास्त किया गया है. बता दें कि, अभी तक राज्‍य के 211 पुलिस अफसरों और पुलिसकर्मियों को बर्खास्त किया जा चुका है. साथ ही संबंधित जिलों के SP से बर्खास्त किए गए पुलिस अफसरों व पुलिसकर्मियों के संबंध में पूरा ब्‍योरा मांगा गया है. बता दें कि नवादा जिले के छह अफसरों व सिपाहियों को बर्खास्त किए जाने का जिक्र है. लेकिन, स्थानीय स्तर पर चार के नाम की ही पुष्टि की गई है. जिसमें ASI संजय कुमार-2, ASI देवेंद्र कुमार, प्रशिक्षु अवर निरीक्षक रतन रजक और सिपाही मुकेश कुमार सिंह का नाम शामिल है.

रिश्वत ले शराब धंधेबाजों को छोड़ने का है आरोप

ASI संजय कुमार-2 और ASI देवेंद्र कुमार सिरदला थाना में पदस्थापित थे. स्वाट दस्ता ने दो शराब धंधेबाजों को पकड़कर इन दोनों अफसरों को सौंपा था. लेकिन इन दोनों अफसरों ने रुपये लेकर दोनों अपराधियों को छोड़ दिया. इस मामले में 23 दिसंबर 2020 को तत्कालीन SP हरि प्रसाथ एस ने दोनों को निलंबित कर दिया था और दोनों अफसरों पर प्राथमिकी भी दर्ज की गई थी.

लेखक

Madhavi Tanwar

Police Media News

Leave a comment