Smart Policing

KANPUR POLICE COMMISSIONERATE ने नाम दर्ज हुई बड़ी उपलब्धि.. रिस्पांस टाइम अब सात मिनट

KANPUR POLICE COMMISSIONERATE ने नाम दर्ज हुई बड़ी उपलब्धि.. रिस्पांस टाइम अब सात मिनट

यूपी पुलिस योगी सरकार में लगातार अपडेट और हाइटेक हो रही है। यूपी पुलिस हर तरीके से (संसाधन, उपकरण, हथियार, गाड़ी, वर्दी, कार्यशैली,) खुद को बेहतर करने का प्रयास कर रही है। इसी का नतीजा है कि जनता का यूपी पुलिस के प्रति विचार में परिवर्तन हुआ है। खबर कानपुर कमिश्नरेट से जुड़ी है, जहां मुसीबत में फंसे लोगों की मदद को कमिश्नरेट पुलिस अब पहले से ज्यादा तेजी से पहुंच रही है।

और घट गया रिस्पांस टाइम

कानपुर कमिश्नरेट की बात करें तो, लंबे समय बाद पुलिस का रिस्पांस टाइम यानी सूचना के बाद घटनास्थल पर पहुंचने का औसत समय घटकर सात मिनट तक पहुंच गया है। इसके साथ ही बेहतर रिस्पांस टाइम की वजह से कमिश्नरेट पुलिस प्रदेश में तीसरे नंबर पर काबिज हो गई है।

इस आधार पर तय होता है रिस्पांस सिस्टम

दरअसल, किस जिले की पुलिस कितनी तेज है, इसका अंदाजा उसके रिस्पांस टाइम से लगाया जाता है। इसका आधार है पीआरवी यानी पुलिस रिस्पांस व्हीकल। आपात कालीन नंबर डायल 112 से जुड़ी पीआरवी को सूचना मिलते ही घटनास्थल पर जाने के लिए कहा जाता है और मौके पर पहुंचने के समय को ही रिस्पांस टाइम कहा जाता है। जनवरी 2021 को कानपुर पुलिस की रैंङ्क्षकग 11 से 24 के बीच थी और रिस्पांस टाइम 12 से 15 मिनट था। तत्कालीन पुलिस अधीक्षक दक्षिण डाक्टर अनिल कुमार ने इस दिशा में प्रयास शुरू कराए थे, जिसके बाद अप्रैल तक रैकिंग में सुधार हुआ और औसत रैकिंग आठ तक पहुंच गई और रिस्पांस टाइम भी घटकर आठ से दस मिनट रह गया था।

पुलिस कमिश्नर ने कहा

पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने बताया कि शहर में स्मार्ट पार्किंग, स्मार्ट सिग्नल और स्मार्ट चौराहे विकसित हो रहे हैं। यानि ट्रैफिक जितना बेहतर चलेगा, हर जरूरतमंद तक पीआरवी 112 के पहुंचने का रिस्पांस टाइम उतना बेहतर होगा। शहर के एक दर्जन चौराहों को स्मार्ट चौराहे के रूप में चयनित करके विकसित किया गया जिनमें फूलबाग, बड़ा चौराहा, विजय नगर, लाल इमली, नंदलाल चौराहे आदि प्रमुख हैं। यहां पर जेब्रा लाइन, आटोमैटिक सिग्नल, ई चालान जैसी व्यवस्था लागू की गई है। उन्होंने बताया कि जल्द ही शहर के चार चौराहों पर आटोमैटिक सिग्नल लागू होंगे जो कि भीड़ देखकर सिग्नल लाइट सेंस करेगी। यानी भीड़ को देखकर सिग्नल का संचालन होगा। इन्हें सब वजहों से रिस्पांस टाइम घटकर सात मिनट रह गया है। इसकी वजह से प्रदेश में कमिश्नरेट पुलिस तीसरे नंबर पर पहुंच गई है।

मुख्य संवाददाता

HARSH PANDEY

Police Media News

Leave a comment