Khaki Connection

UP: पुलिस की पिटाई से युवक की मौत, 12 घंटे बाद उठा शव, SHO समेत 10 पुलिसकर्मियों पर हत्या का मुकदमा दर्ज

UP: पुलिस की पिटाई से युवक की मौत, 12 घंटे बाद उठा शव, SHO समेत 10 पुलिसकर्मियों पर हत्या का मुकदमा दर्ज

उत्तर प्रदेश के जिलों में पुलिस अपराधियों को पकड़ने के लिए लगातार अभियान चला रही है। इसी क्रम में उत्तर प्रदेश  के फर्रुखाबाद (Farrukhabad) जिले में कच्ची शराब पकड़ने गई पुलिस की पिटाई से शुक्रवार देर रात युवक की मौत हो गई। जिसके बाद पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर परिजनों ने 12 घंटे तक शव नहीं उठने दिया साथ ही पुलिसकर्मियों के खिलाफ जमकर हंगामा किया। बड़ी मशक्कत के बाद शनिवार दोपहर डेढ़ बजे किसी तरह पुलिस (Police) ने शव को पोस्टमार्टम (Post Mortem) के लिए भेजा। इसके बाद पत्नी की तहरीर पर मेरापुर थानाध्यक्ष(SHO), चौकी इंचार्ज (Outpost Incharge) समेत 10 पुलिसकर्मियों पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया।



ये है मामला...

दरअसल, मेरापुर (Merapur) क्षेत्र के गांव ब्रह्मपुरी निवासी गौतम उर्फ सेना बहेलिया के घर पर शुक्रवार रात करीब 11 बजे पुलिस ने कच्ची शराब पकड़ने के लिए दबिश दी। जानकारी के अनुसार, पुलिस (Police) गौतम को घर से पीटते हुए 100 मीटर दूर गांव के बाहर मंदिर के पास ले गई। भाई ऊदल बचाने के लिए पहुंचा तो पुलिसकर्मियों ने उसको भी बंद करने की धमकी दी। इससे वह घर भाग गया। कुछ देर बाद ऊदल मां लौंगश्री के साथ मंदिर के पास पहुंचा। वहां गौतम मृत अवस्था में पड़ा था। 

मौके पर पहुंचे अधिकारी 

मृत अवस्था देख ऊदल ने यूपी (UP) 112 पर सूचना दी। जानकारी मिलते ही थाना पुलिस (Police Station) मौके पर पहुंची और पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजना चाहा तो परिजनों ने पीट-पीटकर हत्या करने का आरोप लगाकर विरोध कर दिया। सुबह तक पुलिसकर्मी परिजनों को समझाने का प्रयास करते रहे, पर सफलता नहीं मिली। दोपहर को एडीएम (ADM) सुभाष चंद्र प्रजापति, एएसपी (ASP) अजय प्रताप मौके पर पहुंचे।

पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा

एडीएम (ADM) ने परिजनों को आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने का भरोसा दिया। पत्नी मंजू ने मेरापुर थानाध्यक्ष (SHO) जगदीश वर्मा, अचरा चौकी इंचार्ज विश्वनाथ आर्य, सिपाही निखिल, सचिन व 6 अज्ञात पुलिसकर्मियों के खिलाफ तहरीर दी। दोपहर लगभग डेढ़ बजे पुलिसकर्मियों ने जबरदस्ती शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम (Post Mortem) के लिए भेज दिया, जबकि परिजन एफआईआर (FIR) की कॉपी देने की मांग कर विरोध करते रहे।

संवाददाता

HIMANSHU GARG

Police Media News

Leave a comment