Khaki Connection

गाजियाबाद की सुरक्षा व्यवस्था अब होगी पुख्ता, SSP मुनिराज के प्रस्ताव पर शासन की लगी मोहर, बनेंगे 2 थाने

गाजियाबाद की सुरक्षा व्यवस्था अब होगी पुख्ता, SSP मुनिराज के प्रस्ताव पर शासन की लगी मोहर, बनेंगे 2 थाने

यूपी का गेट कहे जाने वाले जिला गाजियाबाद में क्राइफ ग्राफ को कंट्रोल में लाना जहां पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बना हुआ है। तो वहीं एसएसपी मुनिराज जी. द्वारा बढ़ते अपराध के ग्राफ को कम करने जिले की 40 लाख से ज्यादा कि आबादी को एक बार फिर से सुरक्षा का एहसास कराने वाले है। यूं तो जिले में 22 थाने और करीब साढ़े 4 हजार पुलिसकर्मी तैनात हैं, जिनके कंधों पर में लोगों की सुरक्षा का जिम्‍मा सुनिश्चित करना है। आबादी के हिसाब से 800 लोगों की सुरक्षा के लिए केवल 1 पुलिसकर्मी तैनात है।

22 से बढ़कर हो जाएंगे 24 थाने

जिले में सुरक्षा की व्यवस्था को बनाए रखना पुलिस के लिए कड़ी चुनौती बना हुआ है। क्षेत्रफल शहर से ज्यादा ग्रामीण इलाकों का है। ऐसे में अपराधी जहां लगातार बढ़ता जा रहा है, तो वहीं दूसरी तरफ अपराधी भी बेलगाम हो गए हैं। शहर की सुरक्षा व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त करने के लिए एसएसपी मुनिराज द्वारा शासन को जिले में 4 नए थाने खोलने के लिए मंजूरी दी गई थी। जिसमें से 2 थानों को मंजूरी मिल गयी है। वेव सिटी और क्रॉसिंग रिपब्लिक में नए थाने खुलेंगे। इसके कारण जिले में थानों की संख्या 22 से बढ़कर अब 24 हो जाएगी।

नए थानों से होंगे ये बदलाव

एसएसपी मुनिराज की माने तो नए थानों के खुलने के बाद पुलिस उन क्षेत्रों में बेहतरीन टीमवर्क के साथ लोगों को सुरक्षा मुहैया कराएगी। नए थाने बनने के बाद कवि नगर थाने का कुछ हिस्सा हटाकर वेव सिटी थाने में जुड़ जाएगा। जिसके बाद डासना, लालकुआं और कुछ इलाका दूधिया पीपल, विजय नगर थाने का कुछ हिस्सा क्रासिंग रिपब्लिक में दिया जाएगा।

अभी 2 थानों को मिली मंजूरी

अभी 2 थानों को सरकार की तरफ से थानों को अभी मंजूरी नहीं मिली उनमें नीति खंड और अंकुर विहार क्षेत्र शामिल है। शहरी क्षेत्र में नया थाना बनाना हो तो उसके लिए कम से कम पचास हजार की आबादी जरूरी है, तो वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में नया थाना खोलने के लिए 75 से 90 हजार की आबादी का होना जरूरी है।

लेखक

Madhvi Tanwar

Police Media News

Leave a comment