Khaki Connection

मौलाना जरजिस को 7 साल पहले दुष्कर्म मामले में सुनाई सजा... 10 साल की हुई जेल, 10 हजार का जुर्माना

मौलाना जरजिस को 7 साल पहले दुष्कर्म मामले में सुनाई सजा... 10 साल की हुई जेल, 10 हजार का जुर्माना

एक युवती को शादी का झांसा देकर रेप और ब्लैकमेल के चर्चित मामले में इटावा के मौलाना जरजिस को दोषी करार दिया गया है। वाराणसी की फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 10 साल कड़ी कैद की सजा सुनाई है। इसके साथ ही फास्ट ट्रैक कोर्ट प्रथम नीरज श्रीवास्तव की अदालत ने 10 हजार रुपए के जुर्माना भी लगाया है। कोर्ट के इस फैसले पर मौलाना के अधिवक्ता ने कहा कि इस मामले में हम हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे।

बनारस में हुई थी मुलाकात

जैतपुरा क्षेत्र की रहने वाली महिला ने 17 जनवरी 2016 को 7 साल पहले वाराणसी के जैतपुरा थाने में मौलाना पर शादी का झांसा देकर दुष्कर्म समेत अन्य आरोपों में केस दर्ज कराया था। फास्ट ट्रैक कोर्ट ने बुधवार को मौलाना जरजिस को दोषी करार दिया। महिला की माने तो मौलाना जरजिस कई बार बनारस में तकरीर के लिए आता था। और होटल में ठहरता था। तकरीर के दौरान साल 2013 में उसकी मुलाकात मौलाना से हुई। जिसके बाद वह कई बार मिले। मौलाना जब भी बनारस आता उसे होटल में बुलाता था। 

कमरे में ले जाकर किया दुष्कर्म

महिला का कहना है कि इस दौरान मौलाना ने उसे शादी का झांसा देकर कई होटल में बुलाकर दुष्कर्म कर अश्लील वीडियो भी बनवाया। वीडियो वायरल करने की धमकी देकर वह उसके साथ बनारस में आता और दुष्कर्म करता। महिला के मुताबिक मौलाना जरजिस 19 नवंबर 2015 को घर आया और कमरे में ले जाकर दुष्कर्म कर धमकी भी दी कि वह किसी को बताएगी तो उसे बदनाम कर देगा। 

10 हजार का लगाया जुर्माना

पीड़िता ने एक दिसंबर 2015 को जैतपुरा थाने में मौलाना जरजिस के खिलाफ दुष्कर्म, ब्लैकमेल और धमकी समेत अन्य आरोपों में केस दर्ज कराया था। कोर्ट ने मामले में आरोपी मौलाना जरजिस को दोषी करार दिया। अधिवक्ता अवधेश कुमार सिंह के मुताबिक पीड़िता और 4 गवाहों के बयान, साक्ष्य के आधार पर फास्ट ट्रैक कोर्ट ने मौलाना को दोषी करार मानते हुए 10 साल की कैद और 10 हजार रुपये जुर्माना लगाया है। 

लेखक

Madhvi Tanwar

Police Media News

Leave a comment