Smart Policing

बिहार के 229 बदमाशों की सूची जारी कर ब्योरा जुटा रही है यूपी पुलिस, एडीजी ने बिहार के डीजी से की मुलाकात

बिहार के 229 बदमाशों की सूची जारी कर ब्योरा जुटा रही है यूपी पुलिस, एडीजी ने बिहार के डीजी से की मुलाकात

अक्सर कहावत सुनी होगी आपने की चोर भी सात घर छोड़कर चोरी करता है। ऐसा ही कुछ देखने को मिला है उत्तर प्रदेश में... जी हां, बीते दिनों यूपी के कई जिलों में पुलिस ने ऐसे कई शातिर अपराधियों को गिरफ्तार किया है। जो अन्य राज्यों से आकर सूबे में चोरी की वारदात के साथ-साथ अन्य कई अपराधिक वारदातों को अंजाम देने में जुटे हुए हैं। जी हां बात की जाए गोरखपुर की तो इस जिले की सीमा बिहार बार्डर से जुड़ी है। जिससे सीधे तौर पर यहां बिहार के शातिर बदमाश व अपराधी इस जिले में आसानी से आकर वारदातों को अंजाम देकर या जो चले जाते हैं, या फिर यहीं पैर पसारने लगते हैं। ऐसे में सूची एडीजी गोरखपुर अखिल कुमार ने बिहार से उत्तर प्रदेश के अलग-अलग स्थानों पर वारदात करने वाले 354 बदमाशों की एक लंबी फेहरिस्त तैयार कर बिहार के एडीजी लॉ-एंड-ऑर्डर संजय सिंह, एडीजी सीआईडी जितेंद्र कुमार को सौंपी है। पुलिस इन बदमाशों का संपत्ति का ब्योरा मांग रही है, जिससे इन पर कार्रवाई की जा सके। यूपी पुलिस प्रतिनिधि के तौर एडीजी अखिल कुमार ने गुरुवार को पटना पहुंचकर अधिकारियों के साथ मुलाकात भी की है।

हिस्ट्रीशीट खोलने के दिए निर्देश

जानकारी देते हुए आपको बता दें कि एडीजी गोरखपुर ने बदमाशों की तैयार सूची बिहार पुलिस को सौंप कर उनको गिरफ्तार कराने में मदद कराने की अपील की है। इसके साथ ही साथ जिनपर गैंगेस्टर की कार्रवाई की गई है, उन फरार बदमाशों की अवैध संपत्ति के बारे में भी जानकारी ली गई है। इसके अलावा उनके गृह थाने में उनकी हिस्ट्रीशीट खोलने के लिए भी कहा गया है। बताया जा रहा है कि संपत्ति का ब्योरा मिलने के बाद यूपी पुलिस उनके फरार रहने की स्थित में कोर्ट से आदेश लेकर जब्तीकरण की कार्रवाई करेगी।

बिहार के 229 बदमाश यूपी के मुकदमों में हैं फरार

एडीजी गोरखपुर ने जो सूची सौंपी हैं उसमें बिहार के 229 बदमाश ऐसे हैं, जो यूपी में अपराध कर फरार हैं। इनमें डकैती के 17, लूट के 25, हत्या के 15, नकबजनी के 11, दुष्कर्म के दो आरोपी हैं। ये गाजियाबाद के 17, मेरठ 1,अलीगढ़ 6, आगरा 3, मथुरा 5, कानपुर आउटर 1, प्रयागराज 23, देवरिया 14, गोरखपुर 13, बस्ती 8, चंदौली 25, गाजीपुर 11, मिर्जापुर 24, लखनऊ 9, गौतमबुद्धनगर व वाराणसी के 7-7 बदमाश शामिल हैं। इसके अलावा अयोध्या, महराजगंज, बस्ती, बलमरामपुर, हरदोई, सोनभद्र व बलिया सहित अन्य जिलों में अपराध कर फरार बदमाश हैं। जिनके खिलाफ मुकदमें दर्ज हुए हैं।

मुठभेड़ में गिरफ्तार किए गए थे बिहार के बदमाश

बिहार के बदमाशों का गैंग रेकी के बाद गोरखपुर और आस-पास के जिलों में दबिश देकर लूट, टप्पेबाजी की घटनाओं को अंजाम दे रहा था। वारदात के बाद शातिर बदमाश बिहार भाग जाते थे। कटिहार के गैंग ने कौड़ीराम और कैंपियरगंज में डिक्की तोड़कर पैसे पर हाथ साफ किया तो, शाहपुर, बड़हलगंज और खलीलाबाद में भी वारदातों को अंजाम दिया। वहीं 28 अप्रैल की रात कैंट पुलिस ने मुठभेड़ में घायल कर कोठा थाना क्षेत्र स्थित जोराबगंज गांव निवासी करन, वीरेंद्र, शिवा व हैरान को गिरफ्तार किया था।

अधिकारियों को सौंपी सूची

वहीं अब बाहरी प्रदेशों से आकर अन्य जिलों में वारदातों को अंजाम देने वाले शातिर बदमाशों की लंबी फेहरिस्त गोरखपुर जोन के एडीजी अखिल कुमार ने बिहार पुलिस के अधिकारियों सौंप दी है। बिहार के क्रिमिनल के खिलाफ गुंडा और गैंगेस्टर की कार्रवाई होगी। उनके खिलाफ बिहार में हिस्ट्रीशीट खोली जाएगी। साथ ही संपत्ति जब्त करने की प्रक्रिया भी होगी।

लेखक

Madhvi Tanwar

Police Media News

Leave a comment