Super Cop

अमर रहेगी बरेली की मिट्टी... 35 जवान दे चुके हैं देश के लिए शहादत, घर-घर में गाई जाती है विजय गाथा

अमर रहेगी बरेली की मिट्टी... 35 जवान दे चुके हैं देश के लिए शहादत, घर-घर में गाई जाती है विजय गाथा

एक न एक दिन जान तो सभी को गवानी होती है, लेकिन जो लोग 
अपनी जान देश के लिए न्यौछावर करते हैं, वे हमेशा के लिए अमर हो जाते हैं। साथ ही जिस मिट्टी में ये जन्म लेते हैं, उस धरती का नाम भी रौशन कर जाते है। इसी क्रम में बरेली जिले के 35वें शहीद के रूप में सारज सिंह का नाम दर्ज हो गया है। जो भावी पीढ़ी के लिए आदर्श बन गए। इससे पहले 1942- 45 के द्वितीय विश्व युद्ध में लाखन सिंह, कुबेर सिंह ने शहादत से देश का गौरव बढ़ाया। भारत-पाक युद्ध 1948 में परमवीर चक्र विजेता नायक जदुनाथ सिह के अलावा महेंद्र सिंह, नरवीर सिंह, भारत- चीन सीमा विवाद 1962 के युद्ध में कुतुबुद्दीन खा, एनसीई नन्हे लाल, बलवीर सिंह, पहलवान सिंह, राजेंद्र सिंह, मुरारी सिंह, छोटे सिंह, कैप्टन कन्हैया लाल।

इनकी शहादतों ने धरा को किया गौरवान्वित 

आपको बता दें कि भारत-पाक युद्ध 1965 में रामपाल सिंह, लास नायक प्रीतपाल, मलूक सिंह, सिंह सवार कमल किशोर, चिंरौजी लाल, राजाराम गुप्ता, भारत-पाक युद्ध 1971 में सब लेफ्टिनेंट शशि प्रकाश, विद्याराम, नायक अनोखे सिंह, रामहरी सिह, लास नायक दृगपाल सिंह शहीद हुए। ब्लू स्टार 1984 में सतपाल सिंह, पवन आपरेशन श्रीलंका 1987 में मूलचंद्र वाल्मीकि, सुरेश कुमार शर्मा तथा कारगिल युद्ध 1999 में काबिलपुर के रमेश चंद्र सागर ने सर्वोच्च बलिदान देकर वीर नगरी का गौरव बढ़ाया। नायब सुबेदार सुनील कुमार तथा लांस नायक देवेंद्र सिंह ने शहादत से शहीदों की धरा को गौरवान्वित किया।

इन सपूतों ने मेडल से बढ़ाया जिले का गौरव

- नायक जदुनाथ सिंह - भारत-पाक संघर्ष 1945 - परमवीर चक्र - ग्राम व पोस्ट खजूरी
- कलान ला.ना. दृगपाल सिंह - भारत - पाक युद्ध - महावीर चक्त्र - ग्राम राजेपुर, फर्रुखाबाद यूपी
- मेजर सरदारा सिंह - भारत- पाक युद्ध 1948 - वीर चक्त्र - मो. कुनिया बंडा, पुवाया
- सिपाही नरवीर सिंह - भारत - पाक युद्ध 1947 - अशोक चक्त्र - ग्राम व पोस्ट हथेल, जलालाबाद
- नायक अनोखे सिंह - भारत- पाक युद्ध - मेंशन इन डिस्पैच - ग्राम अयोध्यापुर, बंडा, पुवाया
- कर्नल अभय कुमार सिंह - विशिष्ट सेवा मेडल - ग्राम व पोस्ट मुहरैना, नाहिल
- हव. रामबरन सिह यादव - सेना मेडल 2001 सेवारत - ग्राम चौधरा, पोस्ट टिकरी, पुवाया
- हवलदार फूलवीर सिंह - सेना मेडल 2001 - ग्राम परचरक, पोस्ट कमालपुर खुदागंज
- सिपाही देवेंद्र सिहं - सेना मेडल 2006 - ग्राम करौंदा निगोही
- सिपाही बलराम सिंह - सेना मेडल - ग्राम अतिवरा, पोस्ट झरहर, जलालाबाद
- कैप्टन आशुतोष शुक्ला - सेना मेडल सेवारत - डायरेक्ट्रेट जनरल आफ मिलिट्री, दिल्ली
- कर्नल केके चौधरी - सेना मेडल - सिविल लाइंस शाहजहांपुर
- आ. कैप्टन आनंद सिंह तथा आनरेरी कैप्टन खजान सिंह -द्वितीय

विश्व युद्ध -एसबीओबीआइ अवार्ड 

 फैक्ट फाइल
- 3020 के करीब पूर्व सैनिक है जिले में
- 850 सैनिकों की विधवाओं को सरकार दे रही पेंशन
- 24 विधवाएं द्वितीय विश्वयुद्ध के सैनिकों की ले रही पेंशन
- 12 वीर नारिया भी है जिले में
- 15 हजार के करीब है पूर्व सैनिक परिवारीजन

संवाददाता

JYOTI MEHRA

Police Media News

Leave a comment