Crime

तो क्या IPS मणिलाल पाटीदार के मामले में अब CBI करेगी जांच…

तो क्या IPS मणिलाल पाटीदार के मामले में अब CBI करेगी जांच…

उत्तर प्रदेश के महोबा जिले से खबर सामने आई है कि क्रशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी की मौत के मामले में फरार चल रहे 1 लाख के इनामी निलंबित IPS मणिलाल पाटीदार को 10 माह बाद भी पुलिस गिरफ्तार नहीं कर पाई। साथ ही बता दें कि इंद्रकांत के भाई ने गृहमंत्री शाह को पत्र भेजकर मामले की CBI जांच कराने और पाटीदार को बर्खास्त करने की मांग की है। क्रशर कारोबारी ने पिछले साल सात सितंबर को सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल कर तत्कालीन SP मणिलाल पाटीदार पर रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था।

पढ़े पूरी खबर

बता दें कि 8 सितंबर को कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी के गले में गोली लगने से 13 सितंबर को कानपुर में मौत हो गई थी। इस मामले में पाटीदार समेत चार लोगों पर रिपोर्ट दर्ज हुई थी। बाद में सिपाही अरुण यादव को भी आरोपी बनाया गया। 4 आरोपी लखनऊ जेल में बंद हैं, जबकि निलंबित IPS पाटीदार फरार हैं। पाटीदार को भगोड़ा घोषित कर उन पर एक लाख रुपये का इनाम रखा गया है। मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी न होने पर इंद्रकांत के भाई विजय त्रिपाठी ने गृहमंत्री को पत्र भेजकर मामले की जांच CBI से कराने की मांग की है। साथ ही बताया कि घटना के 10 माह से अधिक समय बीत जाने के बाद भी पुलिस आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर सकी। ऐसे में पाटीदार को जल्दि बर्खास्त किया जाए।

मामले में आरोपियों पर नहीं हुई ठोस कार्रवाई

जेल में बंद सिपाही अरुण यादव के भाइयों द्वारा फेसबुक पर धमकी भरी पोस्ट किए जाने से पीड़ित परिवार परेशान है। विजय ने 21 जुलाई को एसपी सुधा सिंह से शिकायत की थी। इसके बाद आरोपी सिपाही अरुण यादव के भाई नीरज यादव और नीलेश यादव के खिलाफ कबरई थाने में धमकी देने की रिपोर्ट दर्ज की गई थी। आरोप है कि मामला दर्ज होने के 10 दिन बाद भी पुलिस ने न तो आरोपियों को कोई नोटिस दिया और न ही कोई प्रभावी कार्रवाई की। विवेचक एसआई महेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि वह अवकाश पर हैं। ड्यूटी पर आने के बाद आरोपियों को नोटिस तामील कराएंगे।

संवाददाता

RITU SINGH

Police Media News

Leave a comment