Khaki Connection

प्रयागराज: रिश्वत मांगने का वीडियो वायरल होने पर 10 पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई

प्रयागराज: रिश्वत मांगने का वीडियो वायरल होने पर 10 पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government) ने अपने पहले कार्यकाल के दौरान सूबे की कानून व्यवस्था (Law and Order) पर खास ध्यान दिया। यही वजह रही कि यूपी विधानसभा चुनाव में कानून व्यवस्था बड़ा मुद्दा बनकर सामने आया और प्रदेश की जनता ने दोबारा योगी सरकार को सत्ता सौंपी। अब अपने दूसरे कार्यकाल में भी योगी सरकार कानून व्यवस्था को और चुस्त-दुरुस्त करने के प्रयास कर रही है। इसी क्रम में अनियमितताओं में लिप्त पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई का क्रम लगातार जारी है। इसी के तहत प्रयागराज (Prayagraji) जिले में तैनात 10 अन्य पुलिसकर्मियों को भी हटाकर बाहर भेज दिया गया है। इनमें सीओ सिविल लाइंस (CO Civil Lines) के स्टेनो व अन्य पुलिसकर्मी शामिल हैं। इन सभी को अलग-अलग जनपदों में तैनात किया गया है।

रिश्वत मांगने के आरोप 

इससे पहले सीओ सिविल लाइंस (CO Civil Lines) के स्टेनो प्रणय मिश्रा (Steno Pranay Mishra) पर रिश्वत मांगने के भी आरोप लगे थे। इतना ही नहीं कुछ दिनों पहले ही प्रयागराज पुलिस (Prayagraj Police) के ट्विटर (Twitter) हैंडल पर इस संबंध में एक वीडियो भी पोस्ट किया गया था। इसमें एक व्यक्ति सीओ (CO) के स्टेनो और कैंट थाने में तैनात एक सिपाही पर रिश्वत मांगने का आरोप लगाते हुए दिख रहा था। इस मामले में जिला पुलिस की ओर से जांच का आश्वासन दिया गया था।

ट्विटर के जरिये की गई थीं पुलिसकर्मियों की शिकायतें

दरअसल, मामले की शिकायत मिलने पर अधिकारियों ने इसे गंभीरता से लेते हुए स्टेनो को प्रतापगढ़ (Pratapgarh) स्थानांतरित कर दिया। उसके अलावा शिकायतों के आधार पर ही नौ अन्य पुलिसकर्मियों को भी अलग-अलग जिलों में भेजा गया है। इनमें एसओजी (SOG) में तैनात रहे विक्रम सिंह यादव, अमरेंद्र कुमार सिंह, अंकित मिश्रा, अंगद गिरि, तीरथ राज, स्वतंत्र कुमार, नितेश कुमार मिश्रा, विनय कुमार और नवीन राय शामिल हैं। इन्हें प्रतापगढ़, फतेहपुर (Fatehpur) व कौशाम्बी (Kaushambi) में भेजा गया है। 

इनको किया गया स्थानांतरित  

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले ही एडीजी जोन प्रेमप्रकाश (ADG Zone Premprakash) ने शिकायतों के आधार पर ही 13 दागी पुलिसकर्मियों को जिले से हटाकर प्रतापगढ़ जनपद से संबद्ध कर दिया था। इनमें एसओजी (SOG) के मौजूदा व पूर्व में तैनात रह चुके कई पुलिसकर्मी शामिल हैं। आईजी डॉ. राकेश सिंह (IG Dr. Rakesh Singh) ने बताया कि उपरोक्त पुलिसकर्मियों के संबंध में कई तरह की शिकायतें मिलीं थीं। प्रारंभिक जांच रिपोर्ट के आधार पर इनको स्थानांतरित किया गया है। 

संवाददाता

HIMANSHU GARG

Police Media News

Leave a comment