Crime

Narendra Giri Suicide Note: महंत नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट से खड़े हो रहे हैं ये अहम सवाल, किया गया है दो पेन का इस्तेमाल

Narendra Giri Suicide Note: महंत नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट से खड़े हो रहे हैं ये अहम सवाल, किया गया है दो पेन का इस्तेमाल

महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत के बाद पूरे देश में हलचल मच गई है। वहीं  महंत के तथाकथित सुसाइड नोट के सामने आने के बाद उनकी मौत पर कई  तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। जो हर किसी के मन में गहरे संदेह को जन्म दे रही है। बता दें कुल 12 पन्ने के इस सुसाइड नोट को दो चक्रों में लिखा गया है। पहले 8 पेज 13 सितंबर को लिखे गए, जबकि दूसरे 4 पेज 20 सितंबर को। वहीं दिलचस्प यह है कि 13 सितंबर को जिन पेजों को लिखा गया, उस पर तारीख को काट कर 20 सितंबर कर दिया गया है। जांच टीम को एक बात खास तौर पर परेशान कर सकती है, वह है हरिद्वार से महंत को किया गया फोन।

सुसाइड नोट और अहम सवाल

-क्या 13 और 20 सितंबर को हरिद्वार से किसी ने फोन किया, यदि किया तो वह कौन था?
-काले पेन से लिखने के बाद नीले पेन से काट छांट कैसे की गई? क्या दो पेन थे कमरे में?

सुसाइड नोट में आठ पेज में 25 जगह कटिंग 

आपको बता दें कि सुसाइड नोट के तहत दोनों ही तिथियों में लिखे गए पेजों में इस बात का जिक्र है कि आज ही उन्हें हरिद्वार से फोन आया कि दो-तीन दिन में आनंद गिरी किसी लड़की के साथ गलत काम करते हुए उनकी फोटो लगाकर बदनाम करने के लिए वीडियो वायरल करेगा। जिसपर सवाल यह उठ रहा है कि अगर 13 सितंबर को ही महंत नरेंद्र गिरि को यह बात पता चल गई तो उन्होंने सप्ताह भर तक इसका जिक्र किसी से क्यों नहीं किया? इसके अलावा एक और खास बात यह भी है कि सुसाइड नोट में 2 पेन का इस्तेमाल किया गया है। इसे 13 और 20 सितंबर को काले पेन से लिखा गया लेकिन जहां जहां शब्द कटे है। अथवा तारीख बदली है वहां नीले पेन का इस्तेमाल हुआ है। 8 पेज में 25 जगह कटिंग और 4 पेज में 11 जगह। दोनों ही तिथियों में लिखे गए पेजों पर मौत के लिए जिम्मेदार बताए जाने वालों में आनंद गिरि, आद्या तिवारी और उसके बेटे संदीप तिवारी का नाम कई जगह है। फोरेंसिक लैब में ही यह साफ हो पाएगा कि सुसाइड नोट नरेंद्र गिरि ने ही लिखा है अथवा किसी और ने। जिस तरह यह मामला हाईप्रोफाइल है उसमें जल्द ही रिपोर्ट आ सकती है। जिस प्रकार सुसाइड नोट में कटिंग की गई है, उससे यह भी पता चलता है कि लिखने के बाद दोबारा पढ़ा गया।

संवाददाता

JYOTI MEHRA

Police Media News

Leave a comment