Smart Policing

जानिए कौन हैं दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के वह 6 जांबाज जिन्होंने आतंकी साजिश को किया नाकाम

जानिए कौन हैं दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के वह 6 जांबाज जिन्होंने आतंकी साजिश को किया नाकाम

देश की राजधानी दिल्ली में जहां फेस्टिवल सीजन की रौनक है तो ऐसे में दिल्ली पुलिस ने भी राजधानी को दहलाने की साजिश को नाकाम करते हुए 2 महीना पहले शुरू की कई भागदौड़ को लक्ष्मी नगर के रमेश नगर से मोहम्मद अशरफ को गिरफ्तार कर खत्म की है। दरअसल दिल्ली पुलिस की स्‍पेशल सेल ने आतंकियो नापाक साजिश को नेस्तनाबूद करने के लिए के लिए 2 टीमें बनाई थी। पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक साल 2004 में आतंकी अशरफ ने भारत में अपने नापाक कदम रखे थे। अशरफ स्‍लीपर सेल्‍स का मुखिया था। 2009 से 2017 के बीच वह जम्‍मू कश्‍मीर में रहता था। पाकिस्‍तान की खुफिया एजेंसी ISI ने उसका इस्‍तेमाल कई टारगेटेड हत्‍याओं के लिए किया था। उसे इस साल एक आखिरी हमले के लिए ऐक्टिवेट किया गया था मगर दिल्‍ली पुलिस की स्पेशल सेल में तैनात 6 जांबाज पुलिसकर्मियों ने उसके नापाक मंसूबों पर पानी फेर दिया।

दिल्ली में आतंकी ने बनाए हुए थे 2 ठिकाने


बीते दिन राजधानी दिल्ली से गिरफ्तार 40 वर्षीय आतंकी अशरफ अली पाकिस्‍तान के पंजाब प्रांत में नरोवाल जिले का रहने वाला है। डीसीपी प्रमोद कुशवाहा द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक इनकी  टीम ने कालिंदी कुंज में अशरफ के ठिकाने पर छापेमारी कर एके-47 राइफल, एक्‍स्‍ट्रा मैगजीन, 60 राउंड, 1 हैंड ग्रेनेड और 50 राउंड्स के साथ 2 चीनी पिस्‍टल भी बरामद किए हैं। आतंकी अशरफ ने दिल्ली  में किराए पर 2 जगह ली हुई थीं। 1 शास्‍त्री नगर के C ब्‍लॉक में और दूसरी तुर्कमान गेट के पास। वह पिछले 17 सालों में देश के कई राज्‍यों में अली अहमद नूरी की भारतीय पहचान बनाकर रह रहा था। पुलिस इसको गिरफ्तार कर इसके कब्जे से भारतीय पासपोर्ट और अन्‍य कागजात भी जब्‍त किए हैं।

जानिए आखिर कौन से वह जांबाज जिन्होंने आतंकी साजिश को किया नाकाम    

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल यूं ही स्पेशल नहीं कहलाती है। वह स्पेशल इसलिए भी है क्योंकि इसमें तैनात अधिकारी व पुलिसकर्मी स्पेशल है। जो अपने बेहतरीन कार्य और तेज तर्रार कार्यक्षेली से इसे और भी ज्यादा स्पेशल बना देते हैं। दरअसल बीते दिन जो आतंकी गिरफ्तार हुआ है उसके लिए 2 टीमों का गठन किया गया था। जिनके प्रयास से ही आज यह संभव हो पाया है कि आतंकी पुलिस की गिरफ्त में है। इसे गिरफ्तार करने में 6 जांबाज पुलिसकर्मियों का ही कार्य है। आतंकी को गिरफ्तार करने वाली टीम। बाएं से-

एसीपी ललित मोहन नेगी
एसीपी हृदय भूषण
इंस्‍पेक्‍टर विनोद बड़ोला
 इंस्‍पेक्‍टर रविंदर त्‍यागी
 सब-इंस्‍पेक्‍टर सुंदर गौतम
 सब-इंस्‍पेक्‍टर यशपाल भाटी


Delhi-Police-Team

जानिए कैसे पुलिस ने अशरफ अली को किया गिरफ्तार ?

2 महीना पहले पुलिस को खुफिया इनपुट के मिला था कि स्‍लीपर सेल्‍स का अगुवाई कर रहा एक संदिग्‍ध आतंकी राजधानी के आस-पास सक्रिय हुआ है। जिसको गंभीरता से लेते हुए दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 2 टीमों का गठन किया। कुछ ही हफ्तों बाद पुलिस को जानकारी मिली कि भारत में आतंकी हमले करने के लिए एक पाकिस्‍तानी नागरिक हथियार और विस्‍फोटक को इकट्ठा करने में लगा हुआ है। पुलिस टीम ने जो भी जानकारी जुटाई थी उसी को आधार में रखते हुए 8 अक्‍टूबर को FIR दर्ज की। तो पुलिस को पूर्वी दिल्‍ली में उसके छिपे होने की जानकारी मिली। 11 अक्‍टूबर को पुलिस ने लक्ष्‍मी नगर के रमेश पार्क में लोकेशन ट्रेस कर फौरन रेड की गई और अशरफ अली को गिरफ्तार कर लिया। जिससे पूछताछ के बाद ट्रांस-यमुना के आस-पास इलाकों में छापेमारी कर भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया।

आतंकी की गिरफ्तारी को लेकर डीसीपी प्रमोद कुशवाह ने कहा

"जब आतंकी की पहचान हो गई तो पता चला कि वह उस स्‍लीपर सेल नोड का सक्रिय सदस्‍य था जिसने पहले भी भारत में कई हमले और जासूसी गतिविधियों में हिस्‍सा लिया है। वह भारतीय पहचान हासिल करने में कामयाब रहा और दिल्‍ली में पीर मौलाना के रूप में रह रहा था। "

पाकिस्‍तानी हैंडलर ने है सामान कराया था बरामद

स्‍लीपर सेल्‍स के और सदस्‍यों की तलाश में पुलिस छापेमारी में अभी भी जुटी है। अशरफ से खुफिया एजेंसियों के अलावा नैशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी और दिल्ली पुलिस के कमिश्नर राकेश अस्थाना भी पूछताछ करेंगे। साल 2011 के दिल्‍ली हाई कोर्ट धमाकों समेत कई हमलों में उसकी भूमिका को लेक पुलिस जांच कर रही है।

त्योहारी सीजन में थी धमाके की साजिश

डीसीपी कुशवाहा का कहना है कि जम्‍मू और कश्‍मीर के साथ भारत के अन्‍य हिस्‍सों में कई आतंकी हमलों में शामिल होने को लेकर आशंका जताई जा रही है। हाल ही में उसे पाकिस्‍तानी हैंडलर ने त्‍योहारी सीजन के दौरान आतंकी हमले करने को लेकर इज्जात दी थी। वहीं पूछताछ में जानकारी मिली है कि बरामद किए गए हथियार और गोला-बारूद पाकिस्‍तानी हैंडलर ने मुहैया कराए।

लेखक

Madhvi Tanwar

Police Media News

Leave a comment