Smart Policing

साढ़े 7 लाख का इनामी गैंगस्टर हरियाणा एसटीएफ की गिरफ्त में, 5 राज्यों की पुलिस को दे चुका है चकमा

साढ़े 7 लाख का इनामी गैंगस्टर हरियाणा एसटीएफ की गिरफ्त में, 5 राज्यों की पुलिस को दे चुका है चकमा

हरियाणा स्पेशल टास्क फोर्स ने 7.50 लाख के इनामी मोस्ट वॉन्टेड गैंगस्टर सूबे गुर्जर को गिरफ्तार कर एक बड़ी कामयाबी हासिल की है। दरअसल हर बार पुलिस को चकमा देकर भागने वाला सूबे गुर्जर को दिल्ली एयरपोर्ट पर एसटीएफ ने गिरफ्तार किया। गैंगस्टर का हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और पंजाब के साथ अन्य कई राज्यों में खौफ था।  40 से भी ज्यादा मामलों में वॉन्टेड गैंगस्टर पर हरियाणा में 11 हत्या और 12 हत्या के प्रयास के मामले दर्ज है। बीते 4 सालों से गैंगस्टर फरार चल रहा था। 

पुलिस ने रखा था साढ़े 7 लाख का इनाम


जानकारी के मुताबिक हरियाणा स्पेशल टास्क फोर्स को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। टीम ने बीते 4 सालों से 5 से भी ज्यादा राज्यों की पुलिस की नाक में दम करने वाले 7.50 लाख के इनामी मोस्ट वॉन्टेड गैंगस्टर सूबे गुर्जर को राजधानी दिल्ली के एयरपोर्ट से गिरफ्तार कर लिया है। गैंगस्टर सूबे गुर्जर का जरायम की दुनिया में काफी चर्चित नाम है। शातिर गैंगस्टर का हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और पंजाब समेत अन्य कई बड़े राज्यों में दबदबा बना हुआ था। जिसके कारण ही कई राज्यों की पुलिस ने 40 से ज्यादा मामलों में वॉन्टेड की लिस्ट में रडार पर लिया था। बता दें कि शातिर गैंगस्टर पर अकेले हरियाणा में 11 हत्या और 12 हत्या के प्रयास के मामलों में केस दर्ज थे। हत्या,हत्या का प्रयास, लूट व डकैती जैसी बड़ी वारदातें गैंगस्टर सूबे गुर्जर का शौक बन चुका थी। यही नहीं गुरुग्राम, रेवाड़ी और उसके आस-पास के क्षेत्रों में बीते कई सालों में हुई बड़ी अपराधिक वारदातों में भी सूबे गुर्जर के शामिल होने की बात सामने आई है। दिल्ली,पश्चिमी यूपी, राजस्थान के कुछ इलाके, हरियाणा और पंजाब में सूबे गुर्जर ने काफी दहशतगर्दी मचाई थी। जिसकी वजह से वो हरियाणा, दिल्ली, यूपी, राजस्थान व पंजाब पुलिस के लिए किसी बड़े सरदर्द से कम नहीं था। इसी के चलते गुरुग्राम पुलिस ने सूबे पर 7.50 लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा था।

7 दिन की पुलिस रिमांड पर शातिर


एसटीएफ ने गैंगस्टर सूबे गुर्जर को गिरफ्तार कर रेवाड़ी कोर्ट में पेश किया। जहां पुलिस ने उसे रेवाड़ी के पुष्पाजंलि अस्पताल में गोली चलाकर रंगदारी मांगने मामले में पूछताछ के लिए 7 दिन की रिमांड पर लिया। रिमांड पर एसटीएफ कई मामलों में पूछताछ करेगी। 4 साल से वह किसके संपर्क में रहा और कहां-कहां पर रहा, इसकी जानकारी भी ली जाएगी।

पहचान बदलकर घुम रहा था गैंगस्टर


एसटीएफ डीआईजी सतीश बालान की दी गई जानकारी के मुताबिक गैंगस्टर सूबे गुर्जर को गिरफ्तार करने के लिए 2 सालों से मुस्तैद थे। शुरूआती जांच में सामने आया है कि आरोपी अपना नाम बदलकर दीपक नाम से पहचान बनाकर रह रहा था। गैंगस्टर के बारे में शनिवार की सुबह दिल्ली आने की सूचना मिली थी कि वह गोवा या चेन्नई की फ्लाइट से आएगा।एयरपोर्ट पर जाकर पता किया तो वहां बताया गया कि यहां से कोई फ्लाइट नहीं आ रही। पुणे और मुंबई से फ्लाइट आ रही थी। दोनों फ्लाइट के सदस्यों की जानकारी जुटाकर पुणे से दिल्ली आने वाली फ्लाइट में दीपक नाम से एक टिकट बुक मिली। टीम के 2 सदस्यों ने भी उसी फ्लाइट में टिकट बुक करवाई।  फ्लाइट के टेक ऑफ करने के बाद फ्लाइट में ही सूबे गुर्जर की पहचान की गई। दिल्ली में फ्लाइट के लैंड करते ही टीम ने सूचना दी और एयरपोर्ट से उसे गिरफ्तार कर लिया।

चेन्नई में रहकर चलाता था गैंग

टीम के मुताबिक गैंगस्टर ने बताया कि वह पुलिस और एसटीएफ से बचने के लिए बंगाल, गुजरात, राजस्थान, चेन्नई और महाराष्ट्र के शहरों में रह रहा था सबसे ज्यादा वह पुलिस से छुपने के लिए चेन्नई में रहा। इसी बीत वह नेपाल में भी कुछ दिन रहकर आया। लेकिन ज्यादातर चेन्नई में रहकर ही अपने गैंग को चला रहा था। शातिर गैंगस्टर अपने गुर्गों से सिर्फ फोन पर ही बात करता था। उनसे मिला भी नहीं करता था। फोन पर ही उनको वारदातों को अंजाम देने की साजिशे रचता था। 

लेखक

Madhavi Tanwar

Police Media News

Leave a comment