Crime

चंदौली पुलिस ने अंबेडकर नगर से SDM व बलिया से EO को किया गिरफ़्तार, कांशीराम आवास योजना में धांधली का आरोप

चंदौली पुलिस ने अंबेडकर नगर से SDM व बलिया से EO को किया गिरफ़्तार, कांशीराम आवास योजना में धांधली का आरोप

उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) के आदेश पर सोमवार को अंबेडकर नगर (Ambedkar Nagar) से भीटी एसडीएम सुनील कुमार (SDM Sunil Kumar) और बलिया (Ballia) से रसडा नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी राजेंद्र प्रसाद (EO Rajendra Prasad) को चंदौली पुलिस (Chandauli Police) ने गिरफ़्तार कर लिया है। अचानक हुई इन गिरफ्तारियों को लेकर जिले में चर्चाएं शुरू हो गई हैं। बताया जा रहा है कि इन दोनों अधिकारियों को चंदौली में 2011 में कांशीराम आवास योजना (Kashiram Awas Yojna) में अपने रिश्तेदारों और जानने वालों को आवास देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

चंदौली पुलिस ने सोमवार की देर रात अंबेडकरनगर में मारा छापा 


सूत्रों ने बताया कि अंबेडकरनगर के भीटी में तैनात एसडीएम सुनील कुमार को सोमवार देर रात गिरफ्तार कर लिया गया है। अंबेडकरनगर पहुंची चंदौली पुलिस एसडीएम को गिरफ्तार कर अपने साथ ले गई है। बताया जा रहा है इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एसडीएम की गिरफ्तारी का आदेश जारी किया था। बताया जाता है कि 2011 में कांशीराम आवास योजना में बंदरबांट के मामले में एसडीएम को दोषी पाया गया है, जिसके बाद ये कार्रवाई की गई है। 

बताया जाता है कि उस समय यह नायब तहसीलदार के पद पर चंदौली में तैनात थे। एसओ भीटी पंडित त्रिपाठी (SO Bhiti Pandit Tripathi) ने बताया कि चंदौली पुलिस एसडीएम को गिरफ्तार कर अपने साथ ले गई। एसडीएम के खिलाफ गैर जमानती वारंट (Non Bailable Warrant) जारी था, जिसके बाद इनकी गिरफ्तारी हुई हैं।

बलिया से गिरफ्तार किए गए अधिशाषी अधिकारी


वहीं, बलिया जिले के आदर्श नगर पालिका परिषद रसड़ा कार्यालय से चंदौली पुलिस ने सोमवार को अधिशासी अधिकारी राजेंद्र प्रसाद को गिरफ्तार कर लिया गया है। सूत्रों ने बताया कि अचानक पुलिस टीम रसड़ा नगर पालिका परिषद कार्यालय पहुंची और अधिकारी को गिरफ्तार कर अपने साथ ले गई।

जानकारी के अनुसार, साल 2013 में राजेंद्र प्रसाद, चंदौली नगर पालिका में अधिशासी अधिकारी के पद पर तैनात थे। उस समय कांशीरम आवास आवंटन में अनियमितताएं पाई गयी थीं। जिसमें ईओ राजेन्द्र प्रसाद भी आरोपी है। सीओ एसएन बैस (CO SN Bais) ने बताया कि नगर पालिका परिषद रसड़ा के अधिशासी अधिकारी को चंदौली पुलिस गिरफ्तार करके ले गई है।

परिचितों को बांट दिए थे आवास


दरअसल, चंदौली जिले में साल 2011 में कांशीराम आवास योजना के तहत लाभार्थियों को आवास आवंटन करने के दौरान बड़े पैमाने पर धांधली का मामला सामने आया था। चंदौली नगर के वार्ड नंबर 13 के चंद्र मोहन सिंह ने 2013 में कोर्ट में प्रार्थना देकर मामले की जांच की गुहार लगाई थी। इसी मामले में तत्कालीन अपर जिला अधिकारी के द्वारा जांच कराई गई थी।

वहीं, जांच में 42 लोगों को गलत ढंग से आवास आवंटन का मामला सामने आया। इस मामले में तत्कालीन ईओ राजेंद्र प्रसाद, नायब तहसीलदार सुनील कुमार, लेखपाल, कानूनगो सहित एक दर्जन से अधिक अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की गई थी। आरोप है कि अधिकारियों और कर्मचारियों ने अपने ही परिचितों, रिश्तेदारों और सभासद के रिश्तेदारों, नगर पंचायत में कार्यरत कर्मचारियों के रिश्तेदारों को आवास का आवंटन कर दिया था।

हालांकि, उस समय तमाम दबाव के चलते जिला प्रशासन के स्तर से एक्शन नहीं लिया जा सका। ऐसे में चंद्र मोहन सिंह ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया और हाईकोर्ट ने चंदौली पुलिस को निर्देश देकर सभी आरोपितों की गिरफ्तारी का आदेश दिया है। इसी आदेश के क्रम में अधिकारियों की गिरफ्तारी हो रही है।

मुख्य संवाददाता

Police Media

Police Media News

Leave a comment