Khaki Connection

यूपी पुलिस के अपराध रजिस्टर में गठबंधन के प्रत्याशियों पर दर्ज हैं गंभीर धाराओं में मुकदमे

यूपी पुलिस के अपराध रजिस्टर में गठबंधन के प्रत्याशियों पर दर्ज हैं गंभीर धाराओं में मुकदमे

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव (UP Assembly election 2022) की तारीखों का ऐलान होने के बाद सभी राजनीतिक दल अपने-अपने प्रत्याशियों की लिस्ट (Candidates List) जारी कर रहे हैं। इस क्रम में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) और राष्ट्रीय लोक दल (RLD) ने 13 जनवरी को 29 प्रत्याशियों की पहली लिस्ट जारी की। इसमें 19 प्रत्याशी रालोद और 10 प्रत्याशी समाजवादी पार्टी के सिंबल पर चुनाव लड़ेंगे। इस पहली लिस्ट में कई प्रत्याशी दागी है, जिनपर लूट, हत्या और हमले जैसे संगीन मुकदमे दर्ज हैं। वहीं, कई प्रत्याशी तो गैंगस्टर हैं।

बुलंदशहर पर सपा-रालोद गठबंधन प्रत्याशी हाजी यूनुस पर 23 मुकदमे

जानकारी के अनुसार, बुलंदशहर सदर सीट से बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर विधायक बनते रहे हाजी अलीम की मौत के बाद सपा-रालोद ने उनके छोटे भाई हाजी यूनुस को टिकट दिया है। यूनुस के खिलाफ बुलंदशहर के कोतवाली नगर थाने में ही 23 मुकदमे दर्ज हैं। प्रभारी निरीक्षक द्वारा एसएसपी को भेजी गई रिपोर्ट में हत्या, हमला, लूट, गुंडा एक्ट, गैंगस्टर एक्ट जैसे 23 मुकदमों का जिक्र किया गया है।

लोनी सीट से प्रत्याशी मदन भैया पर 10 मुकदमे दर्ज

वहीं, गाजियाबाद में ग्राम जावली निवासी मदन कसाना उर्फ मदन भैया बागपत जिले की खेकड़ा सीट से चार बार विधायक रहे हैं। 2012 में नए परिसीमन के बाद विधानसभा सीट लोनी बन गई। यहां से उन्हें सपा-रालोद गठबंधन ने टिकट दिया है। मदन पर लोनी से गैंगस्टर, बागपत से जानलेवा हमले जैसे 10 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं। इसमें करीब चार मामले कोर्ट में ट्रायल पर हैं।

कैराना सीट से प्रत्याशी नाहिद हसन गैंगस्टर में निरुद्ध

उधर, शामली के कैराना सीट से सपा-रालोद गठबंधन प्रत्याशी नाहिद हसन गैंगस्टर में भी निरुद्ध हैं। साल-2018 में उन पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज हुआ। इसमें वह जेल गए। फिलहाल हाईकोर्ट से सशर्त जमानत पर बाहर हैं। इसके अलावा उन पर 2019 में एसडीओ पर जानलेवा हमले का मुकदमा, 2019 में ही एसडीएम से नोकझोंक करके सरकारी कार्य में बाधा डालना, विवादित बयान देना, पुलिस पर फायरिंग करने के भी मुकदमे दर्ज हैं। पिछले साल कैराना पुलिस ने नाहिद व उनकी मां पर गैंगस्टर की कार्रवाई की थी।

साहिबाबाद सीट से प्रत्याशी अमरपाल शर्मा पर लगा था एनएसए

गाजियाबाद के खोड़ा में भाजपा नेता गजेंद्र भाटी उर्फ गज्जी की 2 सितंबर 2017 को हत्या कर दी गई थी। शूटरों ने खुलासा किया था कि अमरपाल शर्मा ने उन्हें सुपारी दी थी। प्रशासन ने इस मामले में अमरपाल शर्मा पर एनएसए लगाया था। अमरपाल पर साल-2018 में 10 लाख की रंगदारी मांगने का केस दर्ज हुआ। कभी बसपा और कांग्रेस के साथी रहे अमरपाल शर्मा आज सपा-रालोद गठबंधन से साहिबाबाद सीट से प्रत्याशी हैं।

धौलाना सीट से प्रत्याशी असलम चौधरी पर 6 से ज्यादा मुकदमे

वहीं, हापुड़ जिले की धौलाना विधानसभासीट से माजवादी पार्टी के विधायक और मौजूदा प्रत्याशी असलम चौधरी अपने विवादित बयानों की वजह से अक्सर सुर्खियों में रहते हैं। इसकी वजह से पिछले पांच साल में असलम चौधरी के खिलाफ करीब 6 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हुए। यही नहीं, साल 2019 में असलम चौधरी के खिलाफ बलवा-मारपीट और इससे पहले फर्जीवाड़े का मुकदमा दर्ज हुआ था।

संवाददाता

MEGHA CHAUHAN

Police Media News

Leave a comment