Khaki Connection

बागपत: थाने के मालखाने से गायब हुई लाइसेंसी रिवाॅल्वर, 2019 में कराई थी जमा, मुंशी पर लगे गंभीर आरोप

बागपत: थाने के मालखाने से गायब हुई लाइसेंसी रिवाॅल्वर, 2019 में कराई थी जमा, मुंशी पर लगे गंभीर आरोप

कहते है कि अगर आर अपना लाइसेंसी हथियार थाने में जमा करा रहे हैं, तो वह हथियार वहां से भी गुम हो सकता है। जी हां ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहां उत्तर प्रदेश के बागपत में दोघट थानाक्षेत्र निवासी भगवानपुर मौजिजाबाद नांगल गांव के पूर्व प्रधान का निधन होने के बाद दोघट थाने के मालखाने में जमा रिवॅाल्वर गायब हो गया। अब उनका बेटा विरासत में लाइसेंस बनने के बाद रिवॅाल्वर थाने में लेने पहुंचा, तो वह गायब मिली। दरअसल, भगवानपुर मौजिजाबाद नांगल गांव के रहने वाले परीक्षित पंवार उर्फ केतन के पिता पूर्व प्रधान सुक्रमपाल के नाम एक शस्त्र लाइसेंस था। उनके पास इंग्लैंड निर्मित 5 लाख रुपये की रिवॅाल्वर थी। सुक्रमपाल का 11 अगस्त 2019 को निधन हो गया था।

परीक्षित ने मालखाने में जमा कराया था  रिवॅाल्वर

जानकारी के अनुसार परीक्षित ने 21 नवंबर 2019 को दोघट थाने में हेड मोहर्रिर मामचंद सागर के पास मालखाने में रिवॅाल्वर जमा करा दी थी। जमा करने की रसीद भी दी गई थी। इसके बाद परीक्षित ने बताया कि 18 मई 2022 को विरासत में शस्त्र लाइसेंस उसके नाम ट्रांसफर हो गया। इसके बाद पूरे दस्तावेज लेकर वह रिवॅाल्वर लेने के लिए दोघट थाने में गया, लेकिन उसे रिवॅाल्वर नहीं दी गई। उसे बताया गया कि रिवॅाल्वर नहीं मिल रही है। आरोप लगाया कि हेड मोहर्रिर ने उसके साथ अभद्रता करते हुए गाली-गलौज भी की, लेकिन रिवॅाल्वर नहीं दी। लाइसेंसी रिवॅाल्वर गायब होने का मामला डीएम और एसपी तक पहुंचा तो हड़कंप मच गया।

10 बार जा चुका है थाने

परीक्षित ने बताया कि शस्त्र लाइसेंस ट्रांसफर होने के बाद वह 10 से अधिक बार दोघट थाने में रिवॅाल्वर लेने के लिए जा चुका है, लेकिन रिवॅाल्वर नहीं दी गई। आरोप है कि मामला दबाने के लिए उसे धमकाया जा रहा है। अब से पहले ऐसी कोई शिकायत नहीं आई थी कि किसी का थाने के मालखाने में जमा असलाह नहीं मिल रहा है। अब मामला जानकारी में आया है और इसका पता कराया जा रहा है। मुंशी चाबी लेकर थाने से अनुपस्थित है। उसे बुलवाया गया है और रिवॅाल्वर नहीं मिलती है, तो रिपोर्ट दर्ज कराई जाएगी।

संवाददाता

Akansha

Police Media News

Leave a comment