Smart Policing

आखिर क्यों सीएम नीतीश कुमार ने नशामुक्ति के लिए एक ही एसपी को किया सम्मानित... जानिए इसके पीछे की वजह

आखिर क्यों सीएम नीतीश कुमार ने नशामुक्ति के लिए एक ही एसपी को किया सम्मानित... जानिए इसके पीछे की वजह

बिहार में शराब पूरी तरह से वर्जित है। ऐसे में प्रशासन के साथ-साथ पुलिस ने भी इसे पूरी तरह से बंद करने के लिए अपनी ओर से कड़ी मेहनत मश्क्कत की है। इस प्रयास में सबसे बेहतरीन और उत्कृष्ट काम करने के लिए किशनगंज एसपी कुमार आशीष को  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुद पटना के ज्ञान भवन में उत्पाद पदक से सम्मानित किया है।

पुलिस की कार्रवाई से शराब तस्करों के छुटे पसीने

बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने किशगनंज एसपी कुमार आशीष को सम्‍मानित किया।

बिहार के नशा मुक्ति दिवस के मौके पर शुक्रवार को सीएम ने उत्पाद पदक और प्रशस्ति पत्र प्रदान किया है। जिसमें  कुमार आशीष सूबे के एक मात्र एसपी हैं जिन्हें मुख्यमंत्री के द्वारा सम्मानित किया गया है। आपको जानकारी देते हुए बता दें कि इस साल एसपी के नेतृत्व पर किशनगंज पुलिस ने अभी तक 1 लाख लीटर से भी ज्यादा शराब जब्त की है। इतना ही नहीं 500 से ज्यादा आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल की चारदिवारी के पीछे भेजा जा चुका है। पुलिस के लिए बिहार प्रांत का बंगाल और नेपाल के बार्डर से सटे होने के कारण शराब बंदी को सफल बनाना सबसे बड़ी चुनौती रहा है। ऐसे में पुलिस की ताबड़तोड़ कार्रवाई से शराब तस्करों के पसीने छुट पड़े, जिससे बचने के लिए वह तरह-तरह के हतकंडे अपनाने लगे। लेकिन कहते हैं ना कानून के हाथ लंबे होते हैं, बिहार पुलिस ने भी बिल में छिपे इन शराब तस्करों को ना केवल ढ़ुंढ निकाला बल्कि जेल का रास्ता भी दिखाया। बंगाल के कुछ स्थानों में नकली शराब निर्माण की सूचना पर एसपी ने बंगाल पुलिस के अधिकारियों से संपर्क स्थापित कर तस्करों के ठिकाने पर छापेमारी कर तस्करों की कमर तोड़ी। हाल के दिनों में ही SP के निर्देश पर गठित पुलिस टीम ने गुप्त सूचना पर छापेमारी कर कुख्यात शराब तस्कर शाहिद प्रधान विश्वजीत सरकार उर्फ बासु दा को गिरफ्तार कर जेल भेजा है।

पुलिसकर्मियों ने ली नशा ना करने की शपथ

jagran

नशा मुक्ति दिवस के अवसर पर ठाकुरगंज थाना परिसर में शुक्रवार को सर्किल पुलिस इंस्पेक्टर सुनील कुमार पासवान के नेतृत्व में शराबबंदी कानून के समर्थन में सभी पुलिस अधिकारियों और पुलिसकर्मियों को शपथ दिलाई गई। जिसमें थानाध्यक्ष मोहन कुमार, एसआई उदय प्रसाद सिंह, विजय सिंह, विनोद कुमार समेत सभी पुलिस अधिकारियों और कर्मी ने शराब ना पीने की शपथ ली। पुलिस इंस्पेक्टर सुनील पासवान ने बिहार में पूर्ण शराबबंदी को लेकर आजीवन शराब ना पीने, दूसरे को इसका सेवन ना करने का शपथ पत्र भरकर शपथ दिलाई। सभी पुलिसकर्मियों ने आजीवन शराब ना पीने की शपथ ली। इस दौरान थानाध्यक्ष ने कहा कि आजीवन शराब नहीं पीने के लिए और शराबबंदी को जड़ से खत्म करने के लिए यह शपथ दिलाई गई है। मौके पर सभी पुलिसकर्मियों ने इससे जुड़ा शपथ-पत्र भी भर व अपना हस्ताक्षर कर थाने में सुपुर्द किया।

टाउन थाने में भी पुलिसकर्मियों ने ली शपथ

jagran

नशा मुक्ति दिवस के मौके पर इंस्पेक्टर राजेंद्र प्रसाद ने टाउन थाने में तैनात पुलिसकर्मियों को नशे से दूर रहने व शराब ना पीने की शपथ दिलाई। अनुसंधान कक्ष में आयोजित कार्यक्रम के दौरान उपस्थित पुलिसकर्मियों ने नशे का सेवन ना करने व अपने आस-पास के लोगों को भी नशाबंदी के प्रति प्रेरित करने की शपथ दिलाई। इस अवसर पर इंस्पेक्टर ने जानकारी देते हुए कहा कि राज्य में पूर्ण नशाबंदी लागू होने के बाद से आपराधिक घटनाओं के साथ-साथ महिला उत्पीडऩ की वारदातों में भी भारी कमी आई है। एसपी कुमार आशीष के नशामुक्त किशनगंज के सपने को साकार करने के लिए हम सब को मिलजुल कर प्रयास करना होगा।

महिला थानाध्यक्ष ने भी दिलाई पुलिसकर्मियों को शपथ

शराबबंदी को सफल बनाने के उपद्देश्य से महिला थानाध्यक्ष पुष्पलता कुमारी ने थाने पर पुलिसकर्मियों को आजीवन शराब ना पीने और दूसरों को भी शरा का सेवन ना करने के लिए प्रेरित किया। महिला थाना परिसर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान थानाध्यक्ष ने कहा कि सूबे में साल 2016 से शराब पीना, पिलाना और शराब का उत्पादन करना गैर-कानूनी है। इस मौके पर उपस्थित एस आई विजय पासवान, पूनम कुमारी, सिपाही सुषमा कुमारी सहित अन्य पुलिसकर्मियों ने शपथ-पत्र भी भरा और उसपर अपने हस्ताक्षर भी किए।


लेखक

Madhvi Tanwar

Police Media News

Leave a comment