Encounter

जम्मू-कश्मीर में मुठभेड़ के बाद सुरक्षाबलों ने मार गिराए 4 आतंकी

जम्मू-कश्मीर में मुठभेड़ के बाद सुरक्षाबलों ने मार गिराए 4 आतंकी

देश के जवान देश की सुरक्षा के लिए अपनी जान की भी बाज़ी लगा देते है। वह निरंतर बॉर्डर पर तैनात होकर दुश्मनों से देश की सुरक्षा करते है। श्रीनगर में एक बार फिर सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता मिली है। बता दें की जम्मू कश्मीर के शोपियां में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में 4 आतंकियों को मार गिराया है।  शोपियां के मनिहाल में मारे गए आतंकियों की अभी पहचान नहीं हो सकी है। सुरक्षाबलों को कुछ और आतंकियों के छिपे होने की जानकारी मिली है, जिनकी तलाश के लिए अभी ऑपरेशन जारी है।  मुठभेड़ शोपियां के मनिहाल गांव में हो रही है. हालांकि बताया गया कि चारों आतंकी लश्कर ए तैएबा से जुड़े हैं। 


देर रात दो बजे हुई थी मुठभेड़

पहले सिर्फ 2 आतंकियों के मारे जाने की खबर सामने आई थी।  खबर के अनुसार जम्मू कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने कहा था ''शोपियां में मारे गए दोनों आतंकी लश्कर-ए-तोएबा से जुड़े हैं।  एनकाउंटर में अभी दो और आतंकी फंसे हुए हैं. ऑपरेशन जारी है। '' जम्मू-कश्मीर पुलिस  के अधिकारियों के अनुसार, 'शोपियां के मनिहाल इलाके में देर रात करीब 2 बजे मुठभेड़ शुरू हुई। जम्मू-कश्मीर पुलिस, सेना और CRPF के संयुक्त अभियान में 3 अज्ञात आतंकवादी मारे गए हैं. फिलहाल ऑपरेशन जारी है और सुरक्षाबलों का सर्च अभियान चल रहा है। '


अब तक मारे गए 8 आतंकी

11 मार्च के बाद से अब तक सुरक्षाबलों ने 8 आतंकियों को मार गिराया है।  इससे पहले शोपियां में 13 मार्च रात शुरू हुई मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को मार गिराया था।  मारे गए आतंकी के पास से एम-4 कारबाइन, 36 कारतूस, 9600 रुपये और कुछ आपत्तिजनक सामग्री बरामद हुई थी। आतंकी के पास से मिली थीं स्टील की गोलियां पिछले वर्ष शोपियां के रावलपोरा में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में जैश कमाडर सज्जाद अफगानी मारा गया था। अफगानी के पास से मिली चीन निर्मित स्टील की 36 गोलियों ने सुरक्षाबलों हैरान कर दिया है। इसके बाद सुरक्षा बलों ने अपने वाहनों, बंकरों और जवानों की बुलेट प्रूफिंग क्षमता को और मजबूत किया है।  स्टील की यह गोलियां सामान्य बुलेफ प्रूफ वाहनों और जवानों की बुलेट प्रूफ जैकेट को भेदने की क्षमता रखती हैं। 

सुरक्षा कवच में बढ़ाई गई एक और परत 

अधिकारियों ने जानकारी दी कि विशेष रूप से दक्षिण कश्मीर में अब जो वाहन और जवान तैनात किए जा रहे हैं उनमें सुरक्षा की एक परत और बढ़ा दी गई है। आमतौर पर एके सीरीज राइफल्स में इस्तेमाल होने वाली गोलियां और अन्य विस्फोटक पर चीनी तकनीक से हार्ड स्टील कोर की परत चढ़ाई जा रही है।  इससे गोलियों में दागने की क्षमता बढ़ जाती है। अभी कुछ दिन पहले ही में जैश कमांडर सज्जाद अफगानी के पास से मिले कारतूस जिसे आर्मर पियर्सिंग बोला जाता है जो की कठोर स्टील या टंगस्टन कार्बाइड से बने पाए गए हैं।

संवाददाता

RITU SINGH

Police Media News

Leave a comment