ट्रक ड्राइवर की औकात को बताने वाले DM को शाशन ने किया शंट, IAS अफसर ऋजु बाफना बनी शाजापुर की नई कलेक्टर

Share This

 

एक ड्राइवर को औकात बताने की बात कर रहे शाजापुर जिले के कलेक्टर किशोर कन्याल को मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने हटा दिया। उनकी जगह युवा महिला आईएएस अफसर ऋजु बाफना की पोस्टिंग कर दी गई है। ऋजु बाफना वर्तमान में नरसिंहपुर जिले की कलेक्टर हैं. छत्तीसगढ़ की मूल निवासी ऋजु बाफना ने वर्ष 2013 में यूपीएससी की परीक्षा दी थी, जिसमें उन्होंने 77वीं रैंक हासिल की थी। ऋजु बाफना वर्ष 2014 की मध्य प्रदेश कैडर की आईएएस अधिकारी हैं। यूपीएसी में चयन होने के बाद जब वह प्रशिक्षण लेकर लौटीं तो उन्होंने सिवनी जिले में प्रशिक्षु आईएएस अधिकारी के तौर पर काम किया। भोपाल नगर निगम में अपर आयुक्त, सिंगरौली में एडीएम, उज्जैन में एसडीएम जबलपुर में जिला पंचायत सीईओ जैसे कई पदों पर रहीं। कुछ महीने पहले ही नरसिंहपुर कलेक्टर के रूप में उनकी तैनाती हुई थी।

यौन उत्पीड़न की थी शिकायत

वर्ष 2015 में प्रशिक्षु आईएएस रहने के दौरान सिवनी में वह काफी चर्चा में आ गई थीं। सोशल मीडिया में की गई उनकी पोस्ट लाखों की संख्या में वायरल हुई थी। दरअसल, उन्हें मोबाइल पर मध्य प्रदेश मानव अधिकार आयोग के एक पदाधिकारी संतोष चौबे द्वारा अश्लील मैसेज भेजे गए थे। इसकी शिकायत ऋजु ने जिला प्रशासन से की थी। तत्कालीन कलेक्टर भारत यादव ने तत्काल कार्रवाई करते हुए संतोष को हटा दिया था। ऋजु ने विरुद्ध यौन उत्पीड़न की एफआईआर दर्ज कराई थी। जब वे बयान दर्ज कराने अदालत गई तो कोर्ट रूम में एक एडवोकेट कुछ लोगों के साथ मौजूद थे। उन्होंने बयान देने को लेकर असहज महसूस कर किया। तब ऋजु ने मजिस्ट्रेट से स्टेटमेंट इन कैमरा रेकॉर्ड कराने का अनुरोध किया था। तब वकील ने ऋजु पर चिल्लाते हुए कहा, आप अपने ऑफिस में अफसर होंगी, अदालत में नहीं।

सोशल मीडिया पर लिखा था पोस्ट

इस घटना के बाद ऋजु बाफना ने सोशल मीडिया पर लिखा था कि महिलाओं को ज्यूडिशियरी से बहुत उम्मीदें हैं। वह बिना किसी के फेवर की सुनवाई और अच्छे व्यवहार चाहती हैं। लेकिन मुझे जो एक्सपीरियंस हुआ है, उससे लगता है कि एक बार फिर मेरे साथ उत्पीड़न हुआ। मैं प्रिज्यूडिस नहीं हूं, मुझे लगता है कि मेरे साथ इंसाफ नहीं हुआ। मैं चाहती हूं कि अदालतें भी संवेदनशीलता दिखाएं। मैं बस यही दुआ कर सकती हूं कि इस देश में कोई महिला न जन्मे। यहां हर कदम पर उल्लू बैठे हैं…”वहीं, जज ने भी ऋजु से कहा था कि आप अभी अप्वाइंट हुई हैं, इसलिए इस तरह की मांग रख रही हैं। धीरे-धीरे आप अदालतों के कामकाज के तरीके समझ जाएंगी। फिर ऐसी मांगें नहीं रखेंगी। इसके बाद ऋजु ने बयान दर्ज कराया था। वहीं, उज्जैन के नागदा में जब ऋजु बाफना एसडीएम थीं, तब शाजापुर के एएसपी से सर्किट हाउस बुकिंग को लेकर बहस हो गई थी। इस मामले की चर्चा भी पूरे प्रदेश में खूब हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *