Khaki Connection

अरे गोरखपुर में यह क्या हो रहा है....

अरे गोरखपुर में यह क्या हो रहा है....

यूपी में गोरखपुर के दिवाली के दिन से ही कुछ ऐसा हो गया कि पूरे गांव में पुलिस को मुस्तैद कर दिया गया। पूरा मामला गीडा थाना क्षेत्र के भड़सार जिले का है। दरअसल, दिवाली वाले दिन दो पक्षों में किसी बात को लेकर विवाद हो गया। जिसे जातीय रंग देने की कोशिश की गई। इसी के चलते गांव में पुलिस को तैनात कर दिया गया है। ताकि किसी भी तरह की अनहोनी होने से रोका जा सके।

खुलेंगी पिछली पांच साल की फाइलें 

विवाद को जातीय रंग देने के कारण गांव में तनाव बढ़ गया है। इसीलिए पुलिस अब गांव के आपराधिक रिकॉर्ड को खंगालने में जुटी हुई है। गांव में 2015 से अब तक विवाद करने वालों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है, ताकि इस में ऐसी कार्रवाई की जाए ताकि दोबारा कोई अप्रिय घटना ना हो। 

खाकीधारियों पर शामत 

दरअसल, 14 नवंबर दिवाली की रात गांव में दो पक्षों के बीच मारपीट हुई थी। जिसके बाद भी मामले में पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। थाने पर दोनों पक्षों द्वारा प्रदर्शन किए जाने के बाद मामला उजागर हुआ। इसके बाद एसएसपी ने लापरवाही के आरोप में तत्कालीन थानेदार देवेंद्र सिंह को लाइनहाजिर किया गया और हलका दरोगा को निलंबित कर दिया। इसके बाद से मामले ने और तूल पकड़ लिया और सियासत शुरू हो गई।

तिल का ताड़ बनाने की कोशिश

जल्द ही गांव में प्रधानी के चुनाव होने है जिस कारण मामले को लेकर गांव की सियासत गर्मा गई है।  इसे देखते हुए पुलिस ने गांव को छावनी में तब्दील कर दिया गया। एहतियात बरतते हुए पीएसी को भी तैनात कर दिया गया है तो दूसरी ओर पुलिस आपराधिक छवि वालों की शिनाख्त शुरू कर दी है। गीडा थाने के थानेदार सुनील राय ने बताया कि गांव में एहतियातन फोर्स तैनात है। दर्ज मुकदमे की जांच की जा रही है। मामले में नामजद लोगों के पुराने आपराधिक रिकॉर्ड भी पुलिस खंगाल रही है।

संवाददाता

TRIBHUVAN

Police Media News

Leave a comment