Smart Policing

जब वर्दीवालों ने गरीबों-मजलूमों की दीवाली को रौशन बनाया....

जब वर्दीवालों ने गरीबों-मजलूमों की दीवाली को रौशन बनाया....

एनकाउंटर स्पेश्लिस्ट के नाम से मशहूर एसएसपी अजयपाल शर्मा अपने सख्त तेवर से अपराधियों के छक्के छुड़ाने में माहिर है। लेकिन जनता की हर तकलीफ को दूर करने के लिए हमेशा तैयार रहने वाला ये वर्दीवाला दिल से बेहद ही कोमल भी है। आपको बता दें कि दिवाली के दिन इस एनकाउंटमैन की दरियादिली की तस्वीर देखकर हर कोई यही कहता दिखा कि क्या ये वही एसएसपी है जो बदमाशों को उनके घर में सेंध लगाकर जमीनोंदोज कर देते हैं।दरियादिली दिखाने वाले पुलिसवालों में वे अकेले ही नहीं ऐसे कई पुलिसवालों ने मानवता की मिसाल पेश कर गरीबों की दीवाली को सही मायनों में रौशन किया  

जानिए पूरा मामला


गौतमबुद्धनगर एसएसपी अजयपाल शर्मा की शख्सियत आज किसी पहचान की मोहताज नहीं। इस अधिकारी ने ना जाने कितने ईनामी बदमाशों का एनकाउंटर कर सलाखों के पीछे पहुंचाया है। अपराधी तो इस तेज-तर्रार अफसर के नाम से भी खौफ खाते हैं। लेकिन ऊपर से सख्त दिखने वाला ये अधिकार दिल से मोम की तरह है जो दूसरों को तकलीफ में देखकर खुद भी दर्द से कराह उठता है। दिवाली के दिन भी एसएसपी अजयपाल शर्मा की ऐसी ही एक तस्वीर से आमजन रूबरू हुए। बताया जा रहा है कि एसएसपी ने वेस्ट यूपी में गरीब बच्चों को अपने हाथों से खाना खिलाकर दिवाली की खुशियों को मनाया । एसएसपी के इस मानवीय कदम को देखकर आमजन उनकी सराहना करते नहीं थक रहे हैं। लोगों ने उनके इस अंदाज को प्रेरणादायक भी बताया ।  


अपने हाथों से खाना खिलाकर बांटी खुशियां 

 
गौर करने वाली बात है कि एसएसपी अजयपाल शर्मा आमजन के बीच अपने सख्त अनुशासन की वजह से भी जाने जाते हैं। अपने विभाग में भी वे अपने मातहतों की लापरवाही जरा भी बर्दाश्त नहीं करते। ऐसे में दिवाली के दिन इस सख्त अधिकारी का ये रूप हर किसी को हैरान कर गया। उन्होने अपने  कीमती समय में से थोड़ा सा वक्त निकालकर गरीब मासूम बच्चो को अपने हाथों से खाना खिलाया। पुलिसवाले द्वारा गरीब-मजलूम बच्चों की आगे बढ़कर इस तरह मदद करना आमजन के दिल में यकीनन उनकी इज्जत और बढ़ा गया। 

अमरोहा एसएसपी ने भी बुजुर्गों और बच्चों में बांटी मिठाई 

 
गौतमबुद्धनगर एसएसपी अजयपाल शर्मा की तरह संभल पुलिस भी मानवता के काम में जरा भी पीछे नही है।  दीवाली जैसे पावन पर्व पर संभल पुलिस के एसपी और अपर पुलिस अधीक्षक ने वृद्धा आश्रम, कुष्ठ आश्रम और बाल गृह मे जाकर  बुजुर्गों को फल और मिठाईयां बांटकर दिवाली की खुशियों को मनाया । संभल में ही थाना प्रभारी असमोली ने दीवाली के पर्व पर गरीब और विधवा महीलाओं को मिठाई और मोमबत्ती देकर उनको दीवाली की शुभकामनाएं भी दी । वर्दीवालों का इस तरह से गरीबों की मदद करना यकीनन बेहद नेक काम है। 

अमरोहा में बच्चों के खरीदे सारे दिए


यूपी के ट्विटर एकाउंट पर एक किस्सा अमरोहा से भी आया जहां पर अमरोहा के सैदा गली कोतवाली प्रभारी नीरज कुमार जब टीम के साथ बाजार का निरिक्षण कर रहे थे इसी बीच बाजार मे उन्हें दो बच्चे दीए बेचते नजर आए। कोतवाली प्रभारी नीरज कुमार ने देखा कि उन बच्चो से कोई दीपक नही खरीद रहा था। फिर क्या था इस दरियादिल थानाध्यक्ष नीरज कुमार का दिल पसीज गया और फिर उन्होने उनसे सारे दीपक खरीद लिए । थानाध्यक्ष की इस दरियादिली से गरीब बच्चों की दिवाली भी रौशन हो गई। वही मुरादाबाद के एसएसपी ने भी अकेले रह रहे वरिष्ठ नागरिकों को कंबल व मिठाईयां वितरित कर दीपावली का त्योहार मानाया ।

बहरहाल कहना गलत नहीं होगा कि ये पुलिसवाले बेशक त्योहारों की खुशियां ड्यूटी की वजह से परिवार संग नहीं मना पाते हों लेकिन ये खाकीवाले तो आमजन को ही अपना परिवार समझ कर उनकी खुशियों में शामिल हो खुद भी मुस्कुरा लेते हैं। ऐसे वर्दीवालों को पुलिस मीडिया न्यूज दिल से सैल्यूट करता है।

लेखक

Nisha Sharma

Police Media News

Leave a comment