Crime

आप भी हो गए हैं साइबर ठगी के शिकार तो तुरंत करें इस नंबर पर संपर्क, वाराणसी प्रशासन की पहल

आप भी हो गए हैं साइबर ठगी के शिकार तो तुरंत करें इस नंबर पर संपर्क, वाराणसी प्रशासन की पहल

आम तौर पर अक्सर कई इलाको में आए दिन साइबर क्राइम की घटना सामने आ रही है तो वहीं वाराणसी में ही कई साइबर ठगी वाले इसके उदाहरण हैं, बता दें कि साइबर ठग लोगों को बैंक के अधिकारी या इनाम का लालच देकर ठगी का शिकार बना लेते है। लेकिन फिर भी लोग उनकी शिकायत नहीं करते जिससे साइबर ठगों के हौसले बढ़ जाते हैं। इसी क्रम में वाराणसी जिले में साइबर ठगी के शिकार लोग अमूमन पैसा गंवा कर चुपचाप बैठ जा रहे हैं। इससे साइबर अपराधियों के हौसले बुलंद हो जा रहे हैं। ऐसे में अपराध का शिकार होने के बाद आपकी खामोशी दूसरे और परिवार के लोगों के‍ लिए भी बड़ा खतरा साबित हो जा रही है। आपको अगर अपराधियों से लड़ना है तो सीधे साइबर क्राइम सेल में मामले की शिकायत करें या पुलिस के हेल्पलाइन नंबर पर फोन करें। इसके लिए वाराणसी प्रशासन ने हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं।

ऐप डाउनलोड करते ही खाते से गायब हुए 19714 रुपए 

बता दें कि बीते दिनों वाराणसी के शिवपुर की रहने वाली रचना सिन्हा के मोबाइल पर बिजली बिल संबंधित मैसेज आया। बिजली कनेक्शन ना कट जाए इसके लिए साइबर ठगों के कहने पर उन्होंने एक ऐप डाउनलोड किया और उसके खाते से हजारों रुपए स्वत: ही कट गए। बता दें कि उनका पूर्व में एक बार बिजली का कनेक्शन कट गया था। मैसेज देखकर रचना थोड़ा घबरा गईं कि कहीं फिर ना उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़े। इस दौरान ऐप डाउनलोड करते ही उनका फोन हैक हो गया और खाते से 19714 रुपए गायब हो गए।

साइबर ठगों ने रूद्रा अपार्टमेंट के निवासी के बैंक खाते से उड़ाए पैसे

वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन का नाम लेकर बिजली बिल अपडेट के बहाने शिवपुर के रूद्रा अपार्टमेंट के निवासी चंद्रशेखर सिंह के बैंक खाते से साइबर ठगों ने रुपये उड़ा दिए। उनके मोबाइल पर उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन लिमिटेड के नाम से एक व्हाट्सएप मैसेज आया जो कि इलेक्ट्रिसिटी डिस्कनेक्शन से संबंधित था। इसके बाद फोन आया कि मैं यूपीपीसीएल के हेड ऑफिस लखनऊ से बोल रहा हूं आपका विद्युत बिल अपडेट नहीं है। इसके लिए आपको 100 रुपये का आनलाइन पेमेंट करना होगा तभी अपडेट हो पाएगा। पेमेंट करने के बाद इसके बाद खाते से 16500 ट्रांसफर हो गए।

साइबर ठग नए तरीके से बना रहे लोगों को शिकार

बता दें कि साइबर ठगों ने ठगी करने का तरीका बदल दिया है। अब बैंक के अधिकारी या इनाम का लालच देने की बजाय बिजली कनेक्शन या बिल अपडेट करने के नाम पर लोगों को ठगी का शिकार बना रहे हैं। लोग इनकी बातों में आसानी से आ जाते हैं और ये उनके बैंक अकाउंट से जुड़ी व्यक्तिगत जानकारी हासिल करके लोगों के रुपये उड़ा देते हैं। जब तक लोगों को इस बात की जानकारी होती है तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। शिकायत करने के बावजूद साइबर टीम ठगों तक नहीं पहुंच पाती है और लोगों के रुपये वापस नहीं मिले पाते हैं। साइबर ठगी के मामले लगभग रोज आ रहे हैं। बता दें कि अपनी मेहनत की कमाई को वापस पाने की उम्मीद में लोग हर साइबर सेल से लेकर साइबर थाना तक चक्कर लगाते हैं लेकिन ऐसे लोगों की संख्या बेहद कम है जिनकी रकम साइबर ठगों के कब्जे से वापस आ जाती है।

साइबर क्राइम का शिकार होने पर तत्काल करें यह काम

-7839856954-हेल्पलाइन साइबर सेल वाराणसी पर घटना की जानकारी दें।
-1930- साइबर क्राइम हेल्पलाइन नंबर केंद्रीय गृह मंत्रालय का है इस पर भी जानकारी दे सकते हैं।
-एनसीसीपीआर-नेशनल साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल पर अपनी रिपोर्ट कर सकते हैं।
-अपने बैंक से संपर्क करके बैंक अकाउंट से होने वाले लेन-देन बंद कर दें। 
-स्थानीय साइबर क्राइम थाने पर पहुंचकर शिकायत कर सकते हैं। 

संवाददाता

Akansha

Police Media News

Leave a comment