Khaki Connection

थाने में बीवी से लिया तीन तलाक, प्रेमिका से किया निकाह

थाने में बीवी से लिया तीन तलाक, प्रेमिका से किया निकाह

सरकार ने तीन तलाक पर तीन साल की सजा का प्रावधान किया है, लेकिन बिजनौर कोतवाली पुलिस ने कानून को ही ठेंगा दिखा दिया। एक शख्स ने थाना परिसर में पत्नी को फोन पर एक साथ तीन तलाक दे दिया उसके बाद उसने वहां मौलवी को बुलवाया और दूसरा निकाह भी कर लिया। दोनों पक्षों में समझौता होने पर 35 हजार रुपये मेहर की रकम भी पुलिस की मौजूदगी में अदा की गई। निकाह पढऩे की प्रक्रिया थाना प्रभारी के दफ्तर के ठीक सामने हुई।

फ़ोन पर दिया तीन तलाक

बिजनौर के थाना प्रांगण में प्रेमी ने अपनी पत्नी को फोन पर ही एक साथ तीन तलाक दे दिया। तीन तलाक देने के बाद उसने अपनी प्रेमिका से निकाह भी कर लिया। अब पुलिस इस प्रकरण से अपना पल्ला झाडऩे में लगी है। पुलिस वालो ने थाने में  ही दोनों का निकाह पढ़वाया। निकाह पढऩे की रस्म भी थाने में प्रभारी निरीक्षक के कक्ष में निभायी गयी लेकिन इन सबके बीच पुलिस यह भूल गयी कि केंद्र सरकार ने अब तीन तलाक को अपराध मान लिया है। पुलिस अब इस मामले के बारे में कुछ भी बोलने से कतरा रही है।

जिद पर अड़ी प्रेमिका

बरूकी निवासी गुलफाम का निकाह 15 जुलाई 2018 को अपनी रिश्तेदारी थाना हल्दौर क्षेत्र के गांव पावटी निवासी नौशाद की पुत्री सल्तनत से हुआ था। गुलफाम के गांव की ही एक लड़की तरन्नुम से उसका प्रेम प्रसंग था। कुछ समय पहले उसकी प्रेमिका गुलफाम के घर पहुंच गई। पता लगने पर सल्तनत के परिजन दिल्ली से थाना कोतवाली देहात पहुंचे और गुलफाम पर दूसरा निकाह करने का आरोप लगाते हुए मुक़दमा दर्ज कराया। पुलिस गुलफाम को थाने ले गई, और इसी बीच थाने पहुंची प्रेमिका गुलफाम से निकाह करने की जिद पर अड़ गई।


प्रेमी का पकड़ा गिरेबान

प्रेमी ने आनाकानी की तो प्रेमिका ने उसका गिरेबान पकड़ लिया और जहर खाने की धमकी देनी लगी। गुलफाम ने थाने में ही पत्नी सल्तनत को मोबाइल पर एक साथ तीन बार बोलकर तलाक दे दिया। इसके बाद मौलवी को थाने में बुलाया और प्रेमिका तरन्नुम के साथ निकाह कर लिया। प्रेमिका के परिजन निकाह में नहीं आए। थाना प्रभारी के मुताबिक मामला जानकारी में नहीं है। किसी जांच के मामले में वह काफी देर थाने के बाहर रहे।

क्या बोलना है पुलिस का

इस मामले पर पुलिस अधिकारियों से सवाल हुआ तो किसी ने भी इस पर जवाब नहीं दिया. किसी ने भी कैमरे पर कुछ भी बोलने से इंकार किया. इसके साथ ही उच्चाधिकारियों ने तो मामले से ही इंकार कर दिया।

लेखक

Mahima shukla

Police Media News

Leave a comment