Super Cop

बड़े मिया तो बड़े मियां छोटे मियां सुभानल्लाह..... 

बड़े मिया तो बड़े मियां छोटे मियां सुभानल्लाह..... 

एक तरफ एनकाउंटर स्पेशलिस्ट के नाम से जाने जाने वाले अजय पाल शर्मा है जिनके ऩाम भर से अपराधी थर-थर कांपते हैं। इन्होंने अपराधियों के घर में सेंध लगाकर ना जाने कितनी मुठभेड़ों को अपने नाम किया है। अपराधियों के नापाक मंसूबों को नेस्तानाबूत करने के हुनर में माहिर अजयपाल शर्मा का कोई दूसरा सानी नहीं। तो वहीं इन्ही के नक्शे कदमों पर चलते हुए उनके छोटे भाई अमित पाल शर्मा ने ड्यूटी ज्वाइन करने के बाद से ही रेत खनन माफियाओं की रातों की नींद उड़ा रखी है तो लगातार अस्पतालों और स्कूलों के औचक निरीक्षण कर बारीक से बारीक चीज का गहन मुआयना कर रहे हैं और दिशा-निर्देश जारी कर रहे हैं। यानी बड़े मिया तो बड़े मियां छोटे मियां सुभानल्लाह..... 


चार्ज संभालते ही सीएचसी का किया निरीक्षण

बड़े मियां यानी वर्तमान में गौतमबुद्धनगर के एसएसपी अजयपाल शर्मा तो हैं ही दमदार। अपने काम के दम पर  इन्होने अपराधियो के हौंसलों को जमीनोंदोज किया हुआ है तो वहीं छोटे मिया यानी एनकाउंटर मैन अजयपाल शर्मा के छोटे भाई अमित पाल शर्मा तो उनसे भी दो कदम आगे साबित हो रहे हैं। 2016 के आईएएस अधिकारी अमित पाल शर्मा ने कैराना के एसडीएम के तौर पर बुधवार को कार्यभार संभाला था। और ड्यूटी ज्वाइन करने के पहले ही दिन एसडीएम अमित पाल शर्मा ने अपने काम का लोहा मनवा दिया। पहले ही दिन एसडीएम ने ताबड़तोड़ औचक निरीक्षण कर डाले। नगर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण करने पहुंचे उपजिलाधिकारी अमितपाल ने सीएचसी प्रभारी भानु प्रकाश से अस्पताल में मौजूद स्वास्थ्य सुविधाओं से संबंधित सभी जानकारी ली। नवनियुक्त एसडीएम ने अस्पताल के जच्चा-बच्चा केंद्र का भी गहन मुआयना किया। यहां उन्होने साफ-सफाई व्यवस्था पर नाराजगी जाहिर करते हुए उसे और बेहतर करने के निर्देश दिए। इस दौरान उन्होने अस्पताल स्टाफ से भी खुलकर बातचीच की और उनकी समस्याओं को जाना। 


2016 बैच के आईएएस अधिकारी हैं अमित पाल शर्मा

वहीं आपको बता दें कि अमित पाल शर्मा 2016 बैच के आईएएस अधिकारी हैं इससे पहले  वे 2015 बैच के आईपीएस थे जो कि हैदराबाद में ट्रेनिंग कर रहे थे। ट्रेनिंग के दौरान ही इनका सिलेक्शन आईएस के लिए हो गया । और फिर अमितपाल  गाजियाबाद के सदर और लोनी क्षेत्र के एसडीएम के रूप में तैनात रहे इसके बाद इन्हे शामली के एसडीएम के पद पर सरकार ने तैनाती दी । इससे पहले इनके बड़े भाई अजय पाल शर्मा भी शामली के पुलिस कप्तान रह चुके हैं उन्होने वहां कई ईनामी बदमाशों को ढेर किया यहीं से इनके बड़े भाई अजय पाल शर्मा को एनकाउंटर अजय का नाम भी मिला। 

यह भी पढें : स्मार्ट पुलिसिंग और पब्लिक मैनेजमेंट का कॉकटेल है ये आईपीएस
 

गाजियाबाद में अमित पाल ने चबवाये अपराधियों को नाकों चने 

2016 बैच के आईएएस अधिकारी अमित पाल शर्मा जब तक गाजियाबाद में रहे तब तक उन्होंने अपराधियों की चूलें हिला दीं। गाजियाबाद पोस्टिंग के दौरान अमित पाल ने कई बड़ी कार्रवाई को अंजाम तक पहुंचाया। उन्होने गाजियाबाद में एसिड गैंग पर बड़ी कार्रवाई करते हुए बदमाशो को चारो खाने चित्त कर दिया था। वहीं एसडीएम लोनी रहते हुए उन्होने लोनी को जाम के झाम से मुक्ति दिलाई। इतना ही नहीं यमुना से जुड़े रेत खनन माफियाओं को रातों-रात खदेड़ना का सारा श्रेय अमित पाल को ही जाता है उन्होने रेत खनन माफियाओं पर नकेल कसते हुए दर्जनों ट्रक और रेत खनन संबंधित मशीनो को जब्त कराया। उस दौरान रेत खनन माफिया अमित पाल के नाम से ही खौफजदा हो जाते थे।


ऊपर से सख्त और दिल से मोम हैं अमितपाल

जिला प्रशासन और अपराधियों के बीच अपनी कड़क मिजाजी के लिए मशहूर अमित पाल बेशक ऊपर से सख्त दिखते हों लेकिन एसडीएम साहब का दिल मोम सा है। किसी गरीब असहाय, लाचार को देख एसडीएम अमितपाल का दिल पसीज जाता है। और फिर उनके रहनुमा बन ये गरीब मजलूमों की हर संभव मदद में जुट जाते हैं। पिछले साल का ही वाकया ले लीजिए दीवाली का मौका था हर तरफ चकाचौंध और रोशनी की छटा बिखरी हुई थी एसडीएम साहब भी घर जा रहे थे कि वे अचानक ठिठक कर रूक गए। उन्होने देखा कि सड़क किनारे कुछ बुजुर्ग कड़कड़ाती ठंड में ठिठुरते हुए खुले आसमान के नीचे बमुश्किल सोने की कोशिश कर रहे हैं। ये दृश्य़ देख एसडीएम अमित पाल का दिल कांप उठा और फिर अगले ही दिन वे दर्जनों कंबल लेकर उन बुजुर्गों के पास पहुंच गए। बुजुर्ग इतने बड़े अधिकारी की दरियादिली देखकर उनके कायल हो गए। हर किसी के मुंह से एसडीएम साहब के लिए दुआए निकली । ये तो एक वाकया है लेकिन एसडीएम अमित पाल तो जब-तब गरीबों-मजलूमों की मदद करते ही रहते हैं। और यही वजह है कि गाजियाबाद की जनता के दिल में बसते थे अमित पाल । क्षेत्र में किसी भी तरीके का गलत और अवैध काम होने पर सीधे जनता अमित पाल शर्मा को फोन कर देती थी और करें भी क्यों ना अमित पाल शर्मा हर मिलने वाली शिकायत पर कार्रवाई कर जनता को संतुष्ट करने की हर संभव कोशिश जो करते थे । बहरहाल अब वे कैराना की जनता के हित में काम करने को तैयार हैं। उम्मीद है कि यहां भी वे जल्द ही आमजन के दिल में खास जगह बना लेंगे जैसा कि वे हमेशा से करते आए हैं। 

यही भी पढें : एसएसपी अजयपाल शर्मा ने रेप पीड़िता से बंधवाई राखी
 

अपराधियों के लिए आफत बने शर्मा ब्रदर्स

बहरहाल अमित पाल ने कैराना के एसडीएम का पदभार संभालते ही अपने काम का तरीका लोगों को समझा दिया है। आते ही उन्होने जिस तरह से पहले स्वास्थ्य केंद और फिर स्कूल का ताबड़तोड़ औचक निरीक्षण किया है उससे साफ जाहिर होता है कि ये एसडीएम साहब कड़क मिजाज वाले हैं। इनके राज में लापरवाही या मनमानी करने वालों की शामत आने वाली है। वहीं कड़क अमितपाल शर्मा के आने से कैराना में रेत खनन माफियाओं की घिग्गी भी बंधी हुई है। बहरहाल कहना गलत नहीं होगा की ये शर्मा ब्रदर्स यूपी के अपराधियों के लिए आफत से कम नहीं है। बड़े मियां अजयपाल ने तो एनकाउंटर कर ना जाने कितने बदमाशों को उनके गुनाह की सजा दिलाई तो वहीं छोटे मियां भी फूल एक्शन में अपराधियों को दिन में राते दिखा रहे हैं। 

लेखक

Nisha Sharma

Police Media News

Leave a comment