Smart Policing

PUBG ने पहुंचाया जेल, पुलिस ने 10 को किया गिरफ्तार

PUBG ने पहुंचाया जेल, पुलिस ने 10 को किया गिरफ्तार

मोबाइल गेम PUBG ने अपने लांच के बाद से शानदार कामयाबी हासिल की है और अब तक इसके 20 करोड़ से ज्यादा डाउनलोड हो चुके हैं। PUBG का क्रेज भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया पर छाया हुआ है। लेकिन हाल के दिनों में सबसे लोकप्रिय गेम PUBG के चाहने वालों के लिए गुजरात से एक बुरी खबर सामने आयी है। अगर आप गुजरात में रहते है और चोरी छुपे PUBG खेलते है तो आप को भी खानी पड़ सकती है जेल की हवा। जी हां राजकोट पुलिस ने पबजी मोबाइल गेम खेलते हुए 10 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है और साथ ही उनके स्मार्टफोन भी जब्त किए गए हैं।

जानिए क्या है पूरा मामला 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मामला गुजरात के राजकोट का है। जहां पिछले सप्ताह ही गुजरात के राजकोट पुलिस कमिश्नर मनोज अग्रवाल ने आदेश जारी करते हुए कहा था कि जिले में पबजी पर 30 मार्च 2019 तक पाबंदी है। यह आदेश 9 मार्च से लागू भी हो गया था, लेकिन कई लोग चोरी-छिपे गेम खेल रहे हैं। मनोज अग्रवाल के आदेश में कहा गया था कि पबजी पर प्रतिबंध के दौरान यदि किसी के खिलाफ पबजी खेलने की शिकायत होती है और वह दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी और आईपीसी की धारा 188 के तहत उसे गिरफ्तार किया जाएगा। साथ ही 200 रुपये तक का जुर्माना भी लगाया जा सकता है। जिसको लेकर पुलिस ने पबजी खेलते हुए 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। आप को बता दें की उनमें से 6 अंडर ग्रेजुएट्स हैं जो पिछले 2 दिनों से लगातार पबजी खेल रहे थे, हालांकि पुलिस ने इन लोगों को बेल पर छोड़ दिया है। अधिसूचना की अवहेलना के कारण मामला कोर्ट में जा सकता है और ट्रायल भी होता है। ये एक तरह का जमानती अपराध है। पुलिस लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर सकती है लेकिन गिरफ्तार करके नहीं रख सकती है।

जानिए कैसा गेम है PUBG 

PUBG में क़रीब 100 खिलाड़ी किसी टापू पर पैराशूट से छलांग लगाते हैं, हथियार खोजते हैं और एक-दूसरे को तब तक मारते रहते हैं जब तक कि उनमें से केवल एक ना बचा रह जाए। बता दें कि इससे पहले भी बॉम्बे हाईकोर्ट से एक बच्चे ने पबजी को बैन करने की मांग की थी। वहीं कई राज्यों में भी पबजी पर बैन लगाने की मांग उठ चुकी है। जम्मू-कश्मीर में भी एक जिम ट्रेनर की तबियत खराब होने के बाद राज्य में पबजी पर बैन की मांग उठी थी।

लेखक

Sandhya mishra

Police Media News

Leave a comment