Khaki Connection

यूपी में पियक्कड पुलिसवालों की अब खैर नहीं, व्यवहार सुधारें नहीं तो नौकरी जानी तय

यूपी में पियक्कड पुलिसवालों की अब खैर नहीं, व्यवहार सुधारें नहीं तो नौकरी जानी तय


आम जनता के बीच पुलिसवालों की छवि और मजबूत बन सके इसके लिए आला अधिकारियों ने कमर कस ली है. दरअसल इसकी वजह ये है कि अगर खाकी ही शराब के मद में चूर रहेगी तो आम जनता को सुरक्षा कैसे मुहैया होगी. इसीलिए अब वर्दी पहन रौब छाड़ने वाले और नशे में धुत रहने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ अधिकारी नित नई रणनीति बनाने में जुटे हैं. इसी के तहत लखनऊ रेंज के सभी छह जिलों में ऐसे 1396 पियक्कड़ पुलिसकर्मी चिह्नित किए गए हैं । गौर करने वाली बात है कि इन चिन्हित पुलिसकर्मियों को जनता के साथ बदसलूकी करने की वजह से सजा भी दी जा चुकी है. लेकिन व्यवहार में सुधार लाने की बजाय ये पुलिसवाले वर्दी पहन शराब के नशे में धुत नजर आए. इनका मेडिकल भी कराया गया, जिसमें बकायदा शराब पीने की पुष्टि हुई है।

जिलेवार पियक्कड पुलिसकर्मियों के आंकड़ें

आंकड़ों पर नजर डालें तो लखनऊ, सीतापुर, लखीमपुर खीरी, रायबरेली, हरदोई व उन्नाव जिलों में ऐसे पुलिसकर्मियों मिले हैं, जिन्होंने शराब के नशे में अपने काले कारनामों से विभाग की छवि को धूमिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. यहां हैरानी कि बात ये है कि  राजधानी लखनऊ में शराब पीने वाले पुलिसकर्मियों की संख्या सबसे ज्यादा पाई गई है. यहां 350 शराबी पुलिसकर्मियों को चिह्नित किया गया है। वहीं दूसरे नंबर पर रायबरेली, तीसरे पर उन्नाव, चौथे पर लखीमपुर खीरी, पांचवें पर हरदोई और छठे नंबर पर सीतापुर जिला है।.

राजधानी टॉप पर, रायबरेली दूसरे नंबर पर  

   जिला          शराबी पुलिसकर्मियों की संख्या
1.लखनऊ      -           350
2.रायबरेली     -           291
3.उन्नाव       -           268
4.लखीमपुरखीरी  -          240
5.हरदोई       -           143
6.सीतापुर     -            104
कुल        -            1396

1396 पुलिसकर्मी चिह्नित

ऐसे में वर्दी की शान को बरकरार रखने के लिए आइजी रेंज सुजीत कुमार पांडेय ने बीड़ा उठाया और लखनऊ समेत अपने रेंज के सभी छह जिलों के एएसपी को शराब पीने वाले पुलिसकमियों को चिह्नित करने के लिए लगाया. फिलहाल उन्होंने अपनी रिपोर्ट आइजी रेंज कार्यालय को भेज दी है। शराब के नशे में टल्ली रहने वाले सभी चिह्नित 1396 पुलिसकर्मियों की पुलिस लाइन में कार्यशाला कराई जाएगी। इसमें शराब की लत को छुड़ाने के साथ पुलिसकर्मियों के व्यवहार को भी सुधारने का कोशिश की जाएगी

पुलिसकर्मियों को सुधरने का दिया जाएगा मौका

आइजी रेंज लखनऊ सुजीत कुमार पांडेय ने बताया कि लखनऊ रेंज के सभी छह जिलों से वर्दी में शराब के नशे में धुत रहने वाले पुलिसकर्मियों की संख्या मांगी गई थी। ऐसे 1396 पुलिसकर्मी चिह्नित किए गए हैं। इन्हें खराब व्यवहार के चलते दंड भी मिल चुका है। अब इन्हें कार्यशाला के माध्यम से सुधरने और शराब छोडऩे का एक मौका दिया जाएगा। अगर फिर भी नहीं सुधरेंगे तो निलंबन और बर्खास्तगी की कार्रवाई की जाएगी। लेकिन सबको एक बार सुधरने का मौका जरूर दिया जाएगा...
 

संवाददाता

Ankit Tailor

Police Media News

Leave a comment