Others

जानें माफिया डॉन मुख्तार अंसारी को वारंट के बावजूद रोपड़ जेल से लाने में यूपी पुलिस क्यों हुई फेल

जानें माफिया डॉन मुख्तार अंसारी को वारंट के बावजूद रोपड़ जेल से लाने में यूपी पुलिस क्यों हुई फेल

फर्जी दस्तावेजों के आधार पर शस्त्र लाइसेंस लेने के आरोप में प्रयागराज की एमपी-एमएलए न्यायालय में बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की पेशी अब अगले 03 महीने तक नहीं हो पायेगी। मुख्तार को बी वारंट पर लेने के लिए पंजाब पहुंची यूपी पुलिस को रोपड़ जेल के अधिकारियों ने चिकित्सीय आधार पर बाहुबली विधायक को भेजने से इनकार कर दिया। रोपड़ जेल में यूपी की गाजीपुर पुलिस को मुख्तार की मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट दी गई, जिसमे बताया गया है कि मुख्तार मधुमेह, अवसाद और स्लिप डिस्क जैसी गंभीर बीमारियों से ग्रस्त है और उसे 03 माह का कम्पलीट बेड रेस्ट करने की सलाह दी गई है।

मुख्तार ने भांप लिया खतरा 

प्रदेश में सरकार बदलते ही मुख्तार ने खतरा भांप लिया था और एक धमकी के मामलें में पंजाब की जेल में चले गए। अब यूपी पुलिस मुख्तार गैंग पर कार्रवाई तो कर रही है लेकिन मुख्तार उसकी पहुंच से बाहर है। इसके लिए बीती 27 सितंबर को फर्जी दस्तावेजों के आधार पर शस्त्र लाइसेंस लेने के एक मामलें में यूपी पुलिस ने मऊ की सीजेएम न्यायालय से बी वारंट हासिल कर लिया था। इसी बी वारंट के आधार पर यूपी पुलिस मुख्तार को लेने पंजाब की रोपड जेल पहुंची थी लेकिन वहां मेडिकल के आधार पर उसे भेजने से इनकार कर दिया गया।

माफियाओं के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई

बता दे कि यूपी में मौजूदा समय में मुख्तार अंसारी समेत कई बाहुबलियों व माफियाओं के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई चल रही है। राज्य में इनकी व इनके साथियों की तमाम संपत्तियों को ध्वस्त किया जा रहा है। यहां तक की मुख्तार की पत्नी आफशा अंसारी और उनकी पत्नी के भाई आतिफ और अनवर के खिलाफ गैर जमानती वारंट भी जारी किया गया। की संपत्तियों को लेकर भी लगातार कार्रवाई की जा रही है। जबकि मुख्तार के बेटों उमर और अब्बास को भी अवैध कब्जे के मामलें में एफआईआर की गई और दोनों पर ही 25-25 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया गया था।

लेखक

Sandhya mishra

Police Media News

Leave a comment