Crime

दो थप्पड़ की रंजिश में पड़ोसी ने 6 साल के मासूम का अपहरण कर अपने आंगन में कर दिया था दफन

दो थप्पड़ की रंजिश में पड़ोसी ने 6 साल के मासूम का अपहरण कर अपने आंगन में कर दिया था दफन

उत्तर प्रदेश के बांदा  जिले से 6 साल के मासूम बच्चे का अपहरण कर जिंदा दफन करने का दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक दो थप्पड़ की मामूली रंजिस के चलते पड़ोसी ने अपने घर के आंगन मे बच्चे को सन 2010 मे दफन किया था। वहीं मृतक बच्चे के परिजनो ने पुलिस को इस बाबत सूचना दी तो मौके पर पहुंची पुलिस ने दफन बच्चे का नर कंकाल बरामद कर लिया। फिलहाल पुलिस जांच मे जुट गई है। 

जानिए पूरा मामला

दिल दहला देने वाला मामला गिरवा थाना क्षेत्र सहेवा गांव का है।  जानकारी के मुताबिक 9अगस्त2010 को गिरवां थाने के खुरहनड चौकी के साहेव ग्राम में राजू मिश्रा नाम के व्यक्ति से 30 साल के रंजीलाल भुर्जी की मां ने कहा कि उसका लड़का बस में बैठकर भागा जा रहा है पँडित जी मदद करिए। जिसके बाद राजू मिश्रा ने 2010 में  रंजीलाल भुर्जी को बस से उतार कर 2 थप्पड़ जड़ दिये थे। वहीं ये थप्पड भुर्जी के दिल में घर कर गए और फिर उसने तय किया कि वो इन थप्पड़ का राजू मिश्रा से बदला लेगा। और फिर एक दिन जब राजू मिश्रा चित्रकूट गए हुए थे उसी दिन मौके की ताक में बैठा भुर्जी  टॉफी के बहाने राजू के 6 साल के बेटे को बुलाकर ले आया और उसका गला घोंट दिया  और फिर वहशी भुर्जी ने अपने घर के आंगन में ही मासूम को जिंदा गाड़ दिया 
 

पुलिस ने निर्दोषों को झूठे बयान दर्ज कराकर भेज दिया था जेल

लेकिन वहीं इस मामले में बाँदा पुलिस ने आननफानन में 2 पुरूषों और एक महिला को निर्दोष होते हुए जबरन मुलजिम बनाकर 161 खा के बयान झूठे दर्ज करके हत्या और अपहरण में जेल भेज दिया। लेकिन जब हकीकत उस वक्त सामने आई जब हत्यारा अपने भाई से लड़ गया। और फिर भाई और परिजनों ने थाने में शिकायत की जिसके बाद पुलिस ने आंगन में पहुंचकर खुदाई की तो मासूम 6 साल के भोला का कंकाल बरामद हुआ। वहीं पुलिस अब मामले की जांच में जुट गई है। लेकिन  इस घटना ने तेजतर्रार कही जाने वाली बांदा पुलिस की लापरवाही उजागर कर दी जिन्होने मामले की जांच करने की बजाय आनन-फानन में निर्दोषों को ही झूठे बयान दर्ज कराकर सलाखों के पीछे भेज दिया।

संवाददाता

Ankit Tailor

Police Media News

Leave a comment