Crime

लखनऊ में कारोबारी पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या

लखनऊ में कारोबारी पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या

उत्तर प्रदेश के लखनऊ में पुलिस से बेखौफ बदमाशों ने एक व्यापारी पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या कर दी। वारदात के समय व्यापारी दुकान बंद कर अपने घर जा रहा था। इसी दौरान तीन बदमाशों ने उन्हें अपनी गोली का शिकार बनाया। गोली चलने की आवाज सुनकर बाजार में अफरातफरी मच गई। मौके पर मौजूद कुछ लोगों ने कारोबारी को अस्पताल में भर्ती कराया है। जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। वहीं पुलिस को घटना की सूचना दी गई। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की जांच में जुटी है।   

OTHER VIDEO :

क्या है पूरा मामला 

जानकारी के मुताबिक मामला लखनऊ के आलमबाग के चंदरनगर का है। जहां पर अमनप्रीत की मार्केट में अविराज नाम से रेडीमेड गारमेंट की दुकान है। बता दें कि बुधवार की देर रात अमनप्रीत अपनी दुकान बंद कर जा रहे थे। उनके साथ उनका नौकर सागर और सनी उर्फ बाबू था। इसी दौरान कुछ बदमाश वहां आए और अमनप्रीत पर कई राऊंड फायरिंग कर दी। इससे बाजार में अफरातफरी मच गई। वहां मौजूद लोगों ने व्यापारी को ट्रामा सेंट्रर में भर्ती कराया लेकिन डॉक्टरों ने उन्हे मृत घोषित कर दिया। आलमबाग के क्षेत्राधिकारी संजीव सिन्हा के मुताबिक दोनों नौकरों से पूछताछ की गई जिसमें उन्होनें पाली, सोनू और राजू पर फायरिंग करने का आरोप लगाया है। वहीं मौके पर पहुंची पुलिस मामले को पैसे के लेनदेन से जोड़कर देख रही है। इस मामले में फिलहाल तीन लोगों के नाम सामने आए है। जिनकी तलाश में पुलिस लगातार दबिश दे रही है। पुलिस ने दो संदिग्ध लोगों को इस मामले में हिरासत में ले लिया है।     
OTHER VIDEO :

पुलिस के बड़े अधिकारी मौके पर पहुंचे

आलमबाग में हत्या की सूचना मिलते ही पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है। जिसके बाद मौके पर एडीजी राजीव कृष्ण, आईजी एसके भगत और एसएसपी कलानिधि नैथानी पहुंचे। तीनों मौका ए वारदात की जगह पर तफ्तीश कर ट्रामा सेंटर गए। जहां पर मृतक के परिवारीजनों से बातचीत कर हत्या के कारणो  के बारे में जानकारी हासिल की और जांच का आश्वासन दिया।

पुलिस कर रही है मामले की जांच  

अपर पुलिस अधीक्षक सर्वेश मिश्रा के मुताबिक व्यापारी की हत्या के मामले में कई बिंदु सामने आ रहे है। पुलिस का कहना है कि मृतक का नाम शराब तस्करी से भी जुड़ा था। साथ ही सूदखोरी के धंधे में भी लीप्त था। इसके साथ ही कई अन्य बिंदुओं पर जांच की जा रही है। लेकिन मामले में देर रात तक कोई तहरीर नही आई है। कुछ लोगों पर आरोप लगाया जा रहा था। तहरीर मिलने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। 

OTHER VIDEO :

रुपए के लेनदेन का मामला 

सीओ का कहना है कि अमनप्रीत सिंह रुपए देता था। उसने पाली नाम के एक युवक को 20 लाख रुपए दिए थे। पाली रुपए वापस नही कर रहा था। जिसके बाद दोनों की कहासूनी हो गई थी। पैसे वापस ना देने पर अमनप्रीत ने पाली की एसयूवी गाड़ी को रख ली। वह वहां से चला गया। लेकिन रात नौ बजे राजू और सोनू के साथ आया और धमकी देकर चला गया। वहीं नौकरों का कहना है कि वे तीनों दोबारा आए और हत्या कर भाग निकले।

पुलिस खंगाल रही है सीसीटीवी

पुलिस वारदात वाली जगह पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फूटेज खंगाल रही है। साथ ही इस दौरान कुछ संदिग्ध बाइक सवारों को पुलिस नें रोककर पूछताछ की। रात होने के कारण तस्वीरे साफ नही है। पुलिस ने इसको लैब में भेज दिया है। साथ ही आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कई स्थानों पर दबिश दी जा रही है।

शराब तस्करी में मृतक जा चुका था जेल 

बताया जा रहा है अमनप्रीत चार साल पहले कृष्णानगर थाने से शराब तस्करी के मामले में जेल जा चुका है। साथ ही 26 अगस्त 2015 में आलमबाग इलाके में उस पर हमला भी हुआ था। पुलिस के मुताबिक यह हमला भी रुपये के लेनदेन को लेकर किया गया था। जिसमें जुगुन वालिया नाम के एक शख्स ने गोली चलाई थी। पुलिस ने इस मामले में जुगुन वालिया को  गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। 

लेखक

Madhavi Tanwar

Police Media News

Leave a comment