Super Cop

BIRTHDAY SPECIAL : गाजियाबाद पुलिस के SSP मुनिराज जी. को जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

BIRTHDAY SPECIAL : गाजियाबाद पुलिस के SSP मुनिराज जी. को जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

साल 2009 बैच के तेजतर्रार IPS अधिकारी व गाजियाबाद जिला पुलिस के एसएसपी मुनिराज जी. का आज जन्मदिन है। अपने नाम और अपनी अलग कार्यक्षेली से अपनी पहचान बनाकर विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ आम लोगों की मदद के लिए हर समय तैयार रहने वाले आईपीएस मुनिराज किसी पहचान के मोहताज नहीं है। 31 मार्च को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तत्कालीन एसएसपी को हटाकर गाजियाबाद जिले की कमान आईपीएस मुनिराज जी. के हाथों में सौंपी.... महज 56 दिन के कार्यकाल में ही आईपीएस मुनिराज जी. ने वह कर दिखाया जो आजतक कोई अन्य पुलिस अधिकारी नहीं कर पाया। 

सीएम ने सबसे बेहतरीन अधिकारी के हाथों में सौपी गाजियाबाद जिला पुलिस की कमान

Image

3 अप्रैल को मुनीराज जी. ने अस्थायी तौर पर गाजियाबाद एसएसपी का चार्ज संभाला। जिसके बाद आईपीएस मुनिराज जी. ने सबसे पहले गाजियाबाद जिले में बढ़ते क्राइम के ग्राफ को कम करने का काम किया। आईपीएस मुनिराज जी. के एसएसपी पद को संभालने से ठीक पहले एक समय ऐसा आ गया था जिसमें गाजियाबाद जिले में घटित हुई आपराधिक वारदातों ने कानून वयवस्था को पूरी तरह से चरमरा कर रख दिया था। आम लोगों का घर से बाहर निकला बंद दुभर हो गया था। ऐसे में जिले में अपराध को काबू करने और कानून व्यवस्था को पुख्ता करने के लिए एक बेहतरीन अधिकारी की जरूरत थी। देर रात ही सीएम योगी का एक्शन प्लॉन इसपर काम कर गया। और अपने प्रदेश के पुलिस विभाग में तैनात सबसे बेहतरीन अधिकारी आईपीएस मुनिराज जी. का चयन कर उनके हाथों में गाजियाबाद जिले की सुरक्षा कमान सौपी। 

लापरवाही पसंद नहीं करते एसएसपी मुनिराज जी.

Image

यूं तो आईपीएस मुनिराज जी. जिस भी जिले में रहे हैं वहां अपने काम करने के अलग ही तरीके को लेकर अपनी पहचान बनाए हुए है। ऐसे में वह ड्यूटी को लेकर किसी भी तरह की लापरवाही सहन नहीं करते हैं। एसएसपी मुनिराज अपने मातहतों को थाने पर आने वाले फरियादियों की समस्याओं को सुनकर उनका जल्द से जल्द निस्तारण करने की बात कहते है। जिला पुलिस के पुलिसकर्मी भी अपने एसएसपी की दी गई नसीहतों का सही ठंग से पालन करते हुए दिखाई देते हैं। 

अपनी इस कार्यशैली से अलग पहचान बनाए हुए हैं एसएसपी

Image

अक्सर कोई अधिकारी जब ऑन ड्यूटी होता है, तो वह हमेशा या तो अपने कार्यालय में रहते हुए अपने एसी वाले कमरों में बैठकर लोगों की समस्याओं को सुनते हैं। या फिर कभी इलाके का जायाजा लेना होता है, तो उसके लिए भी ज्यादातर कार में सवार ही दिखाई देते हैं। लेकिन एसएसपी मुनिराज जी. की कार्यशैली इस सब से परे हैं। उनके काम करने के तरीके में खास बात यह देखी गई है कि वह न सिर्फ पैदल और साइकिल चलाकर थानों की चेकिंग करके सभी को चौंका देते हैं बल्कि अपराधियों की धरपकड़ और छापेमारी करने के लिए भी कई बार साइकिल से ही मौके पर पहुंच जाते हैं। मुनिराज जी खेल में भी काफी रूचि रखते है, एक बेहतरीन धावक के तौर पर मुनिराज जी. ने राष्ट्रीय स्तर के कई मेडल भी जीते हैं। साथ ही साथ उन्होंने मैराथन में भी अपनी तेज दौड़ का लोहा मनवाते हुए कई अवॉर्ड जीते हैं।

कौन हैं आईपीएस मुनिराज जी.?

Image


तमिलनाडु के एक किसान परिवार में जन्मे मुनिराज 2009 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। जिनकी सबसे पहले नौकरी की शुरुआत बतौर एडिशनल एसपी बनारस के पद पर हुई थी। इसके बाद वह एएसपी गाजियाबाद, एएसपी रूरल शाहजहांपुर, एसपी सिटी गाजियाबाद, एसपी चंदौली, एसपी हमीरपुर, एसपी पीलीभीत, एसपी मऊ, एसपी बुलंदशहर और एसपी ट्रेनिंग, एसएसपी अलीगढ़ के रूप में भी तैनात रहे। वहीं अब एसएसपी गाजियाबाद रहते हुए जिले को अपराध मुक्त करने की सबसे बड़ी उपलब्धि भी मुनिराज जी. को ही जाती है। 

कठीन परिस्थितियों के माने जाते हैं एक्सपर्ट 

Image

आईपीएस मुनिराज जी. को यूपी पुलिस विभाग में संकट मोचन का नाम देना गलत ना होगा। क्योंकि वह कई बार कठीन परिस्थितियों में काम करके उनके 'एक्सपर्ट' बन चुके है। प्रदेश में कई ऐसे मामले इस बात का सबूत भी है। जैसे  सीएए प्रोटेस्ट के दौरान मुनिराज की तैनाती अलीगढ़ में थी। जहां उनके बेहतरीन काम ने सभी का दिल जीत लिया। ठीक ऐसे ही जब वह ताज नगरी आगरा में तैनात थे तो उस समय कोरोना काल के दौरान भी मुनिराज जी के अच्छे कार्य सामने आए। 

लेखक

Madhvi Tanwar

Police Media News

Leave a comment