Others

पहली बार चुनाव आयोग की बड़ी कार्रवाई, मौजूदा सीएम योगी के 72 घंटे और पूर्व सीएम मायावती के 48 घंटे तक चुनाव प्रचार करने पर पाबंदी

पहली बार चुनाव आयोग की बड़ी कार्रवाई, मौजूदा सीएम योगी के 72 घंटे और पूर्व सीएम मायावती के 48 घंटे तक चुनाव प्रचार करने पर पाबंदी

चुनाव प्रचार के दौरान आपत्तिजनक बयान देने पर चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बसपा सुप्रीमो मायावती के खिलाफ सख्त कदम उठाया है।जानकारी के मुताबिक आयोग ने सीएम योगी के 72 घंटे तक चुनाव प्रचार पर पाबंदी लगा दी है। वहीं, मायावती के 48 घंटे तक प्रचार पर प्रतिबंध लगा दिया है। आपको बता दें कि चुनावा आयोग द्वारा लगाया गया प्रतिबंध मंगलवार सुबह छह बजे से लागू होगा।

OTHER VIDEO :  

जानिए पूरा मामला

चुनाव प्रचार के दौरान राजनेता लगातार अमर्यादित टिप्पणी करने से बाज नहीं आ रहे हैं। ऐसे में आचार संहित उल्लंघन को लेकर चुनाव आयोग ने भी कड़ा रूख अख्तियार कर लिया है। जानकारी के मुताबिक चुनाव आयोग ने चुनाव प्रचार के दौरान विवादित बयान देने पर उत्तर प्रदेश के सीएम योगी और बसपा सुप्रीमो मायावती पर  बड़ी कार्रवाई की है। आपको बता दें कि आयोग ने कड़ा फैसला लेते हुए सीएम योगी पर 72 घंटे यानी तीन दिन के लिए चुनाव प्रचार करने पर पाबंदी लगाई है। गौरतलब है कि चुनावी इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी प्रदेश के सीएम पर आयोग ने इतनी बड़ी कार्रवाई की है। आयोग की इस बड़ी कार्रवाई के बाद राजनीतिक दलों को कड़ा संदेश मिला है। 

OTHER VIDEO :

सीएम योगी और मायावती के इन बयानों पर हुई कार्रवाई

गौरतलब है कि बसपा सुप्रीमो मायावती ने सहारनपुर के देवबंद रैली में मुस्लिमों से सपा-बसपा गठबंधन को वोट देने की अपील की थी। वहीं इसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि अगर कांग्रेस, सपा और बसपा को अली पर विश्वास है तो हमें भी बजरंग बली पर विश्वास है।योगी के इस विवादित बयान के बाद चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस भी भेजा था और जवाब देने के लिए भी कहा था। जिसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने जवाब में कहा था कि उनकी मंशा गलत नहीं थी। वह भविष्य में इस तरह के बयान देने में सतर्कता बरतेंगे। लेकिन आयोग ने सख्त कदम उठाते हुए उनपर कड़ी कार्रवाई कर दी। 

OTHER VIDEO :

सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद चुनाव आयोग ने लिया सख्त फैसला

गौरतलब है कि चुनाव प्रचार के दौरान तमाम नेताओं द्वारा विवादित बयान दिए जाने पर चुनाव आयोग की तरफ से नोटिस भेजे जाते रहे कार्रवाई कम ही मौकों पर नजर आई। इसे लेकर लगातार सवाल भी उठते रहे। ऐसे में जब बात सुप्रीम कोर्ट तक पहुंची तो शीर्ष अदालत ने चुनाव आयोग को तलब कर सख्त निर्देश दिए। सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद ही सीएम योगी और मायावती पर सख्त फैसला लिया गया। 

OTHER VIDEO :

पहली बार चुनाव आयोग ने की है कड़ी कार्रवाई

आपको बता दें कि ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी राज्य के मौजूदा मुख्यमंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री पर आयोग ने चुनाव के दौरान इतना बड़ा फैसला लिया गया हो। गौरतलब है कि सीएम योगी को चुनाव प्रचार के दौरान पहले भी एक बार चेतावनी दी जा चुकी है। शायद इसी वजह से उनपर 72 घंटे की पाबंदी लगी है। मायावती को पहला नोटिस मिला था इसलिए उनपर 48 घंटे की रोक लगाई गई। 

OTHER VIDEO :

2014 में आजम खां पर जनसभा और रोडशो करने पर लगी थी पाबंदी

आपको बता दें कि इससे पहले 2014 चुनाव में चुनाव आयोग ने आजम खां पर बड़ी कार्रवाई की थी। भड़काऊ भाषण देने के आरोप में उनपर जनसभा, रोडशो करने की पाबंदी लगा दी गई थी। 2014 में ही अमित शाह पर भी चुनाव आयोग ने प्रचार की पाबंदी लगाई लेकिन उनकी ओर से आश्वासन के बाद इसे हटा लिया गया।

संवाददाता

Ankit Tailor

Police Media News

Leave a comment