Khaki Connection

किसान के बेटे ने यूपी पीसीएस 2018 परीक्षा में हासिल की चौथी रैंक

किसान के बेटे ने यूपी पीसीएस 2018 परीक्षा में हासिल की चौथी रैंक

संसाधनों की कमी सफलता को रोक नहीं सकती, अगर लगन हो दिल में कुछ कर गुजरने की. आज इस कहावत को जालौन के लाल विपिन शिवहरे ने उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग में पूरे उत्तर प्रदेश में चौथा स्थान पाकर साबित कर दिया है. विपिन शिवहरे जालौन के एक साधारण किसान परिवार से ताल्लुक रखते हैं. पीसीएस 2018 के घोषित परिणाम में टॉप 5 में चौथा स्थान पाकर जनपद का नाम रोशन ही नहीं किया बल्कि अपने माता-पिता की तपस्या सार्थक कर दी. बता दें कि आज पदों की भर्ती के मामले में हाल के वर्ष में उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग की सबसे बड़ी परीक्षा से प्रदेश को 988 अधिकारी मिलेंगे. इस बार की परीक्षा में शीर्ष तीन स्थान पर जगह पाने वाले उत्तर प्रदेश के बाहर के हैं.

वर्तमान में ऑडिट अफसर हैं विपिन

यूपी पीसीएस 2018 के आज घोषित परिणाम में जालौन के ऐट थाना क्षेत्र के अमीटा गांव के निवासी विपिन शिवहरे की चौथी रैंक हासिल की है, जबकि, तीन टॉपर अन्य प्रदेशों से हैं. विपिन शिवहरे वर्तमान में मध्य प्रदेश सरकार के लेखा विभाग में ऑडिट ऑफिसर के पद पर कार्यरत हैं. इसके पहले कुछ वर्ष उन्होंने स्टेट बैंक में भी नॉकरी की है. उनके पिता चेतराम शिवहरे साधारण किसान है.

किसान हैं विपिन के पिता

विपिन शिवहरे के पिता चेतराम शिवहरे ने बताया कि वो पहले दूध बेचने का कार्य करते थे और जब दूध बेचने कस्बा ऐट में जाते थे तो विपिन को भी साइकिल पर बैठकर स्कूल ले जाते थे. विपिन की प्रारंभिक शिक्षा जालौन के कस्बा ऐट के शिशुमन्दिर विद्यालय में हुई है. वर्तमान में उनकी 20 बीघा जमीन है जिस पर वो खेती करते हैं. जब उनके पुत्र के चयनित होने की ख़बर मिली तब मीडिया उनके घर पहुंची तो वे खेत पर काम करते हुए मिले. उनके पिता ने बताया उनके पीसीएस में चयनित पुत्र को यहां स्कूल मैनेजमेंट ने कभी टॉपर नहीं बनने दिया, लेकिन उनके पिता का कहना है कि उन्हें ईश्वर पर भरोसा था और आज वे गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं.

मां हुई भाव विभोर

विपिन शिवहरे की मां कुसमा देवी ने भावविभोर होते हुए बताया कि मेरा बेटा कभी बचपन मे जी भर कर खेल नहीं सका. हमेशा पढ़ाई करता रहता था. जब कभी घर में रिश्तेदार आते थे तो वह कुछ समय निकालकर औपचारिक मुलाकात करके अपने रूम में जाकर पढ़ाई में लग जाता था, आज उस की सफलता पर बहुत खुश हूं.

लेखक

Nisha Sharma

Police Media News

Leave a comment