Smart Policing

दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़े भगोड़े MR. & MRS. नटवरलाल, 30 करोड़ से ज्यादा की कर चुके हैं ठगी

दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़े भगोड़े MR. & MRS. नटवरलाल, 30 करोड़ से ज्यादा की कर चुके हैं ठगी

राजधानी दिल्ली की कोटला मुबारक पुलिस ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए देश भर के कई लोगों को चूना लगाने वाले और एक दर्जन से अधिक मामलों में भगोड़े दंपति को आखिरकार दबोच ही लिया। जानकारी के मुताबिक पुलिस द्वारा गिरफ्तार दंपत्ति पर 30 करोड़ से ज्यादा की ठगी करने का आरोप है।
 
OTHER VIDEO :

जानिए पूरा मामला

दिल्ली की कोटला मुबारक पुलिस के हत्थे मिस्टर एंड मिसेज नटवरलाल चढ़े हैं। पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार किए गए दंपत्ति गुरूग्राम में रह रहे थे और ये बड़े ही शातिर ठग हैं। इस नटवरलाल दंपत्ति को दिल्ली, पंजाब और हरियाणा की कई अदालतों ने कई मामलों में भगोड़ा भी घोषित कर रखा है। इसके अलावा इनके खिलाफ तीन मामले सीबीआई में भी हैं। इतना ही नहीं इस दंपत्ति ने बैंकों के अलावा कईं वित्तीय संस्थानों और एजेंसियों से भी लोन ले रखा था, लेकिन उसे चुकाने के विचार इनके न थे। इतना ही नहीं इस ठग दंपत्ति ने कुछ प्राइवेट निवेशकों से भी तकरीबन 8-10 करोड़ रुपये अपने प्रॉजेक्ट्स में निवेश करवा रखे थे। 

OTHER VIDEO :

सर्विलांस और मुखबिरों की मदद से हुए गिरफ्तार

वहीं डीसीपी (साउथ) विजय कुमार ने जानकारी दी कि, कोटला मुबारकपुर थाने की पुलिस को सूचना मिली थी कि सीबीआई के द्वारा दर्ज किए गए भ्रष्टाचार, आपराधिक षड़यंत्र और फर्जीवाड़े के एक मामले में विनोद और प्रीति को भगौड़ा घोषित किया गया है और सीबीआई उन्हें तलाश रही है। जिसके बाद साउथ दिल्ली की पुलिस भी इस ठग दंपत्ति की तलाश में जुट गई।और फिर पुलिस टीम ने तकनीकी सर्विलांस और मुखबिरों के जरिए सूचनाएं जुटाईं और रविवार को इन दोनों आरोपियों को सूर्य विहार इलाके से गिरफ्तार कर लिया।वहीं आपको बता दें कि पुलिस छानबीन में इनके खिलाफ दर्ज 20 मामलों का पता चला है जिनमें से 13 मामलों में अदालतों ने इन्हें भगोड़ा घोषित किया हुआ था। पुलिस के मुताबिक इन्होने दिल्ली के अलावा पंजाब, हरियाणा और अन्य राज्यों के सैंकड़ों लोगों को करोड़ों का चूना लगा रखा था। 

OTHER VIDEO :

2006 में CBI ने ने ग्रुप हाउसिंग स्कैम में विनोद को किया था गिरफ्तार

वहीं पुलिस पूछताछ में पता चला है कि पंजाब में जन्मा विनोद बंसल पंजाब यूनिवर्सिटी से ग्रैजुएट हैं, जबकि गाजियाबाद की रहने वाली उसकी पत्नी भी चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रैजुएट हैं। विनोद 1983 में काम की तलाश में दिल्ली आया था और फरीदाबाद में प्रॉपर्टी डीलिंग का काम करने लगा। 2006 में सीबीआई ने उसे एक ग्रुप हाउसिंग स्कैम में गिरफ्तार किया था। और फिर जेल से छूटने के बाद उसने लुधियाना में एक स्कूल खोला और कईं लोगों को उसमें पैसा लगाने का झांसा दिया और जब लोगों ने अपनी खून पसीने की गाढ़ी कमाई लगा दी  तो वो उन्हें चूना लगाकर फरार हो गया। उसके बाद दिल्ली आकर उसने ग्रीन पार्क में प्रॉपर्टी खरीदी और उसे बैंक को गिरवी रखकर पैसा ले लिया। उसके बाद बैंक को बताए बिना उसी प्रॉपर्टी के अलग-अलग फ्लोर कुछ लोगों को बेचकर उनसे भी पैसा ऐंठ लिया। 

OTHER VIDEO :

कई वित्तीय संस्थानों से लोन लिया लेकिन कभी लौटाया नहीं

उसने लॉर्ड बुद्धा सोसायटी के नाम पर कईं वित्तीय संस्थानों से भी लोन लिया, मगर उसे लौटाया नहीं। 2016 में भी उसे और उसकी पत्नी को गिरफ्तार किया गया था, लेकिन उसने अंतरिम जमानत ले ली और उसके बाद बेल जंप करके फिर फरार हो गया। पुलिस अब इन सभी मामलों में उससे पूछताछ कर रही है।

लेखक

Nisha Sharma

Police Media News

Leave a comment