Super Cop

'काली' फिल्म के पोस्टर को लेकर छिड़ा विवाद, डायरेक्टर पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप

'काली' फिल्म के पोस्टर को लेकर छिड़ा विवाद, डायरेक्टर पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में डॉक्यूमेंट्री फिल्म (documentary film) ‘काली’ के ट्रेलर को लेकर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। वहीं राजधानी लखनऊ (capital Lucknow) के हजरतगंज थाने (Hazratganj Police Station) में फिल्म की निर्माता लीना मनीमेकलाई (Lena Manimekalai) के खिलाफ गंभीर धाराओं में एफआईआर (FIR) दर्ज हुई है। एक अधिवक्ता वेदप्रकाश शुक्ला की तहरीर पर पुलिस ने निर्माता लीना, आशा एसोसियेट और एडिटर श्रवण ओनाथन के खिलाफ आपराधिक साज़िश, धार्मिक भावनाओं को आहत करने, भड़काने और आईटी एक्ट (IT Act) की गंभीर धाराओं में एफआईआर दर्ज की गई है। 

दरअसल, अधिवक्ता का आरोप है कि फिल्म के पोस्टर में आपत्तिजनक तरीके से मां काली को दिखाया गया है। जिसके वजह से करोड़ों हिन्दुओं की आस्था आहत हुई है। अधिवक्ता की मांग है कि फिल्म के निर्माता के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया जाए। साथ ही फिल्म को प्रतिबंधित भी किया जाए। फ़िलहाल पुलिस आरोपों की जांच में जुटी हुई है। 

महंत राजू दास ने दी चेतावनी

मिली जानकारी के अनुसार हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने फिल्म की निंदा करते हुए प्रतिबंध लगाए जाने के साथ ही गृहमंत्री (home Minister) से मांग की है कि इस मामले में कठोर कार्रवाई हो साथ ही चेतावनी देते हुए कहा कि अगर हिंदू देवी देवताओं (Hindu deities) के बारे में इस तरीके की डॉक्यूमेंट्री फिल्म (documentary film) बनाई जाएगी तो फिर स्थितियां विपरीत हो जाएंगी। मात्र नूपुर शर्मा के बयान से पूरे देश में भूचाल आ गया 56 कंट्री बिलबिला गयी। विवादित बयान देते हुए राजू दास ने कहा कि अगर आप कार्रवाई नहीं करोगे तो हम कह सकते है। सर तन से जुदा हम भी कर सकते हैं। पूरे देश में वह स्थिति उत्पन्न कर देंगे कि आपको हिंदुस्तान छोड़कर कहीं और जाना पड़ेगा। 

अयोध्या के संतों ने भी जताई नाराजगी

उधर, अयोध्या के साधु-संतों ने भी फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। बता दें कि डॉक्यूमेंट्री फिल्म काली के ट्रेलर में देवी मां को धूम्रपान करते दिखाए जाने के बाद अयोध्या के संतों ने नाराजगी व्यक्त की है। संत समाज ने इसको सनातन धर्म का अपमान बताते हुए फिल्म पर प्रतिबंध लगाए जाने की मांग की है। इस दौरान विश्व हिंदू परिषद (Hindu Parishad) ने डॉक्यूमेंट्री फिल्म को लेकर आपत्ति जताते हुए फिल्म का विरोध किया है। साथ ही सेंसर बोर्ड (censor board) से मांग किया है कि ऐसी फिल्म पर तत्काल प्रतिबंध लगाया जाए। वहीं फिल्म निर्माता के खिलाफ कठोर कानूनी कार्रवाई की जाए। 

संवाददाता

Akansha

Police Media News

Leave a comment