Crime

खुलेआम चल रहा सट्‌टे का कारोबार पर सब जानकर भी पुलिस बनी अनजान

खुलेआम चल रहा सट्‌टे का कारोबार पर सब जानकर भी पुलिस बनी अनजान

कभी चोरी-छिपे चलने वाला सट्‌टा बाजार आजकल कानून की ढीली पकड़ की वजह से सट्टा माफियाओं के संरक्षण में खुलेआम संचालित हो रहा है। ओपन, क्लोज और रनिंग के नाम से चर्चित इस खेल में जिस प्रकार सब कुछ ओपन हो रहा है उससे यही प्रतीत होता है कि प्रमुख सट्टा माफियाओं को कानून का अब कोई खौफ नहीं रह गया है। 

OTHER VIDEO :

जानिए क्या है पूरा मामला

शाहजहांपुर क्षेत्र में इस खेल के बढ़ते कारोबार का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि सट्टे से बर्बाद हो रहे लोग दिन-रात अंकों के जाल में उलझे रहते हैं। सट्टा माफियाओं के एजेंट जो पर्ची काटते हैं प्राय: हर गली-मोहल्ले में आसानी से पर्ची काटते नजर आते हैं। इनमें से कुछ आदतन किस्म के लोग अधिकतर मोहल्लों में खुलेआम पर्ची काटकर एवं मोबाइल के माध्यम से भी इस अवैध कारोबार को संचालित कर लोगों की गाढ़ी कमाई पर डाका डाल रहे हैं। जिसकी जानकारी शायद पुलिस को छोड़कर सभी को है। सट्टों के हिसाब-किताब की जगह बार-बार बदल कर सट्टा माफिया अपनी होशियारी का भी परिचय देने की कोशिश करते हैं। गरीब बेरोजगार युवाओं को मोटे कमीशन का लालच देकर इस अवैध कारोबार में उतारा जा रहा है। आगे चलकर यही युवा अपराध की ओर अग्रसर हो जाते हैं। शिकायत होने पर जब पुलिस अभियान चलाती है तो सट्टा माफिया को बक्श कर अक्सर इन्हीं युवाओं के खिलाफ कार्रवाई कर खानापूर्ति कर लेती है। इस सट्टा के अवैध कारोबार ने कई घरों को तबाह कर दिया है। सब कुछ जानते हुए भी पुलिस जिस प्रकार आंख बंद किए बैठी है उससे पुलिस की भूमिका पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं।

OTHER VIDEO :

पुलिस को जानकारी होने के बाद भी नहीं होती कार्रवाई

शहर के आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में काफी लंबे समय से जुआ व सट्टे का कारोबार बेखौफ संचालित हो रहा है। अधिकारियों को इसकी जानकारी होने के बावजूद किसी प्रकार की मुहिम नहीं चलाई जा रही है। इस कारण क्षेत्र में खुलेआम यह कारोबार खूब फलफूल रहा है। 

OTHER VIDEO :

क्षेत्र में कानून व्यवस्था बिगड़ी

शाहजहांपुर क्षेत्र में कानून व्यवस्था इस तरह बिगड़ी है कि आपराधिक गतिविधियों में लिप्त लोगों को पुलिस का जरा भी भय नहीं है। पहले तो कभी कभार एक-दो छोटे प्रकरण बनाकर खानापूर्ति कर दी जाती थी, लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में एेसी किसी प्रकार की मुहिम को अंजाम नहीं दिया जाता है। इस कारण जुए के अड्डे व सट्टे माफियाओं के हौसले बुलंद हैं। वे अपने काम को खुलेआम संचालित कर रहे हैं। ऐसे में लोगों का कहना है कि पुलिस के संरक्षण के कारण इनका संचालन हो रहा है। जिला प्रशासन ने भी आंखें बंद कर रखी है। शहर के आसपास के गांवों में चल रहे अवैध कारोबार से कई परिवार बर्बाद हो रहे हैं और बर्बादी की कगार पर है। स्थिति यह है कि शहर के आसपास के गांव जहां खुलेआम जुआ और सट्टा चल रहा है। क्षेत्र में चल रहे अवैध कारोबार से प्रशासन नजर चुरा रहा है और वरिष्ठ अधिकारियों को गुमराह कर रहा है।

संवाददाता

Shanu singh

Police Media News

Leave a comment